Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

विकास स्वरूप बने नए विदेश सचिव, इनके उपन्यास पर बन चुकी है ऑस्कर विजेता फिल्म

1986 बैच के विदेश सेवा के अधिकारी रहे विकास स्वरूप को विदेश मंत्रालय ने सचिव के पद पर नियुक्त किया है। स्वरूप अब पासपोर्ट, वीजा, कॉन्स्यूलर और विदेश में बसे भारतीयों के मामलों पर कार्य करेंगे।

विकास स्वरूप बने नए विदेश सचिव, इनकी उपन्यास पर बन चुकी है ऑस्कर विजेता फिल्मVikas Swarup Appointed as Foreign Secretary in Ministry of External Affairs

1986 बैच के विदेश सेवा के अधिकारी रहे विकास स्वरूप को विदेश मंत्रालय ने सचिव के पद पर नियुक्त किया है। स्वरूप अब पासपोर्ट, वीजा, कॉन्स्यूलर और विदेश में बसे भारतीयों के मामलों पर कार्य करेंगे। मालूम हो कि विकास स्वरूप वकीलों का गढ़ कहे जाने वाले शहर इलाहाबाद यानी की प्रयागराज के वकील घरानों से आते हैं। उन्होंने केंद्रीय विश्वविद्यालय इलाहाबाद से दर्शनशास्त्र, इतिहास व मनोविज्ञान का अध्ययन किया है।

विदेश सचिव बनने से पूर्व विकास स्वरूप कनाडा के उच्चायुक्त और विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के तौर पर काम कर चुके हैं। वे साल 2000 से 2003 के बीच लंदन में कार्यरत थे, इस दौरान उन्होंने एक उपन्यास लिखा जिसका नाम 'क्यू एंड ए' है। ये उपन्यास इतनी चर्चित हुई कि करीब 43 भाषाओं में छपी। मालूम हो कि स्वरूप के उपन्यास पर ही ऑस्कर विजेता फिल्म 'स्लमडॉग मिलेनियर' बनी थी।

उनके उपन्यास पर बनी स्लमडॉग मिलेनियर फिल्म ने ऑस्कर जीतकर इतनी चर्चा बटोर ली कि उन्हे उपन्यास का शीर्षक बदलने का सुझाव मिला। उपन्यास के कवर पर फिल्म का एक दृश्य लगा दिया गया और शीर्षक बदलकर 'स्लमडॉग मिलेनियर' कर दिया गया। किताब खूब बिकी लेकिन शीर्षक व कवर बदले जाने से वे खफा हो गए और इस बात को उन्होंने सार्वजनिक तौर पर कहा। मालूम हो कि यह उपन्यास महज दो महीनों के भीतर लिखी गई थी।

वे मशहूर कॉलमनिस्ट के तौर पर भी जाने जाते हैं। उन्होंने द गार्जियन, टाइम, द टेलीग्राफ, न्यूजवीक, लिबरेशन और द फाइनेंशियल टाइम्स के लिए लिख चुके हैं। फिलहाल वे ओटावा में भारत के उच्चायुक्त हैं। जल्द ही वे अपना नया पदभार ग्रहण करेंगे।


Share it
Top