Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Unnao rape case: तीस हजारी कोर्ट से कुलदीप सेंगर को उम्र कैद की मिली सजा

उन्नाव रेप केस मामले में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई है।

unnao rape case kuldeep singh sengar Punishment by court today live update
X
कुलदीप सेंगर

उन्नाव रेप केस मामले में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने सजा का ऐलान कर दिया है। मालूम हो कि कोर्ट ने सेंगर को दोषी करार देते हुए 20 दिसंबर तक फैसला सुरक्षित रख लिया था। सेंगर पर कई मामले दर्ज हैं ऐसे में सजा पर बहस के दौरान सीबीआई वकील ने दोषी को आजीवन कारावास की सजा की मांग थी।

उन्नाव रेप केस लाइव अपडेट (Unnao rape case live update)

उन्नाव रेप केस में तीस हजारी कोर्ट ने कुलदीप सेंगर को उम्रकैद की सजा सुनाई है। तो वहीं 25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

सजायाफ्ता विधायक और भाजपा के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को आज दोपहर 2 बजे सजा सुनाई जाएगी

सेंगर के वकील ने कोर्ट को बताया कि वह परिवार में एकमात्र रोजी रोटी का साधन हैं।

सेंगर के वकील का कहना है कि उनकी देनदारियां हैं। रिश्तेदारों से बेटियों की फीस उधार ली गई है क्योंकि वह जेल जाने के समय से अपने बैंक खाते का लेन-देन नहीं कर पाए हैं। सजा पर बहस के दौरान वकील ने कहा कि यह चुनाव उनके काम की पहचान थी। इस अवसर को छोड़कर उनके पास कभी नैतिक नैतिकता नहीं थी।

बहस के दौरान जज ने कहा कि अगर मैं जान दे दूं तो ठीक रहेगा? इसके बाद सेंगर के वकील ने कहा- हां

पीड़ित का वकील- नहीं, यदि आईपीसी पोक्सो एक्ट के तहत नहीं दी जाती है तो उसे दिया जाना चाहिए। आईपीसी जीवन के शेष तक कहता है।

जज ने बहस के दौरान कहा कि अगर हम 376 (2) (i) की 4 दीवारों के भीतर के मामले को देखें, तो यह 10 साल से कम नहीं है। यदि पोक्सो एक्ट लगता है तो आजीवन कारावास।

सीबीआई के वकील ने कहा कि धारा 376 (2) (i) (16 साल से कम उम्र की लड़की से बलात्कार के लिए सजा) लागू होती है। जब संशोधन के अनुसार, कठोर सजा है तो अभियुक्त को वो मिलनी चाहि। ध्यान दिया जा सकता है कि 2019 में आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम पारित होने के बाद धारा 376 में बदलाव किया गया था और सजा बढ़ा दी गई थी। कोर्ट में चर्चा 2019 संशोधन को लेकर भी हो रही है।

ऐसे आया था सामने मामला

उन्नाव के बहुचर्चित अपहरण और गैंगरेप मामले में कुलदीप सिंह सेंगर को तीस हजारी कोर्ट ने दोषी करार दिया था। इस मामले की शुरुआत 10 महीने पहले सामने आईथी जब पिता की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई थी। 11 जून 2017 को पीड़िता किडनैप हो गई थी। जिसके बाद पीड़ित परिवार पुलिस में मामला दर्ज करवाया और 21 जून तक पीड़िता वापस आ गई और 22 जून को मजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान दर्ज कराए। लेकिन पिता की मौके के बाद ये मामले काफी बहुचर्चित बन गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story