Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: आईसीएमआर, स्वास्थ्य और गृह मंत्रालय ने कोविड-19 को लेकर दी महत्वपूर्ण जानकारियां

एंपावर्ड ग्रुप 4 के चेयरमैन ने कहा कि http://covidwarriors.gov.in एक मास्टर डाटाबेस है। इसमें हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स और वॉलंटियर्स हैं।

Coronavirus: आईसीएमआर, स्वास्थ्य और गृह मंत्रालय ने कोविड-19 को लेकर दी महत्वपूर्ण जानकारियां
X

स्वास्थ्य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और आईसीएमआर ने मंगलवार को दैनिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोरोना वायरस (कोविड-19) को लेकर कई जानकारियां दी हैं। प्रेस कांफ्रेंस में एंपावर्ड ग्रुप 4 के चेयरमैन अरविंद पांडा भी मौजूद थे। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस के 1335 नये मामले सामने आए हैं। और इस दौरान 47 लोगों की मौत हुई। अबतक कुल 18 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने क्या कहा

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बतया कि देशभर में अभी तक कुल 18601 मामले सामने आए हैं। बीते सोमवार से आज तक 1336 नए मामले सामने आए हैं। सोमवार को एक दिन में 705 लोग ठीक हुए हैं, कुल 3252 लोग ठीक हो चुके हैं। 17.48 फीसदी लोग ठीक हो रहे हैं। 3 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है, इसमें एक नया जिला प्रतापगढ़, राजस्थान शामिल हुआ है। देश में 61 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 14 दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है।

एंपावर्ड ग्रुप 4 के चेयरमैन ने क्या कहा

एंपावर्ड ग्रुप 4 के चेयरमैन ने कहा कि http://covidwarriors.gov.in एक मास्टर डाटाबेस है। इसमें हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स और वॉलंटियर्स हैं। अब तक इस मास्टर डाटाबेस में 1 करोड़ 24 लाख मानव संसाधनों की डिटेल्स आ गई हैं। इसमें जिला और राज्य स्तरीय कॉर्डिनेटर्स के नंबर और डिटेल्स है। कोरोना की 20 कैटिगरी और 49 सब कैटिगरी जो कोरोना मैनेजमेंट के काम आ सकते हैं, उनकी जानकारी covidwarriors.gov.in पर उपलब्ध हैं। कुछ इंडिविज्युल लेवल का डाटा सिर्फ जिला मजिस्ट्रेट और म्युनिसिपल बॉडीज़ और स्टेट गवर्नमेंट के अधिकारी ही देख पाएंगे बाकी जो डाटा है वो पब्लिक डोमेन में है उसे सभी लोग देख सकते हैं।

गृह मंत्रालय ने क्या कहा

गृह मंत्रालय ने कहा है कि जो इलाके हॉटस्पॉट नहीं हैं, वहां कार्यों की इजाजत दी गई है। मजदूरों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए परमिट दिया गया है ताकि वह किसी भी परेशानी की से बचते हुए आसानी से दूसरे स्थान पर पहुंच सके। 4 राज्यों में सहायता के लिए टीम भेजी गई है। बीस अप्रैल के बाद कई ग्रामीण इलाकों में कार्य शुरू हो चुका है।

कुछ राज्यों में मनरेगा व सड़क बनाने का काम शुरू हुआ है। खुशी इस बात कि है कि गांव के लोग कोरोना वायरस महामारी को लेकर पूरी तरह सतर्क हैं। गांव के लोग मुंह पर गमछा-रुमाल बांध रहे हैं। सभी लोग लॉकडाउन का पालन भी कर रहे हैं। महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, राजस्थान में केंद्र सरकार की टीमों को सहयोग मिल रहा है। पश्चिम बंगाल में जो टीम गई, राज्य सरकार और प्रशासन से सहयोग नहीं मिल रहा है। ये आपदा अधिनियम के तहत केंद्र सरकार के आदेशों का उल्लंघन है।

ICMR ने क्या कहा

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के वरिष्ठ वैज्ञानिक आर. गंगाखेड़कर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि राज्यों को दो दिनों के लिए रैपिड टेस्टिंग किट का उपयोग नहीं करने की सलाह दी गई है। रिजल्ट में बहुत भिन्नताएं आ रहीं थीं जिसके चलते ऑन ग्राउंड टीमों द्वारा किट परीक्षण के बाद 2 दिनों में एडवाइजरी जारी की जाएगी।

4,49,810 सैंपलों का अब तक टेस्ट किया जा चुका है। कल 35,852 सैंपलों का टेस्ट किया गया जिनमें से 29,776 नमूनों का टेस्ट 201 ICMR नेटवर्क लैब में और बाकी 6,076 सैंपलों का टेस्ट 86 निजी प्रयोगशालाओं में किया गया। यह एक नई बीमारी है पिछले साढ़े तीन महीनों में विज्ञान ने विकास किया है और हमने PCR टेस्ट भी शुरू किए। 5 टीके मानव परीक्षण फेज़ में चले गए हैं। यह पहले कभी किसी अन्य बीमारी के मामले में नहीं हुआ।

Next Story