Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Union Budget Highlights 2019 : मिठाई, फास्ट फूड व सोडा पर सरकार बढ़ा सकती है टैक्स, इन क्षेत्रों में दे सकती है छूट

केंद्र सरकार को बजट में कुछ खाद्य पदार्थ पर टैक्स बढ़ाने के सलाह मिले हैं। बताया जा रहा है कि आगामी बजट में केंद्र सरकार मिठाई, नमकीन व सोडायुक्त कोल्ड ड्रिंक्स पर टैक्स में बढ़ोतरी कर सकती है। इन क्षेत्रों से जुड़े विश्लेषकों का कहना है कि इन चीजों पर टैक्स बढ़ाकर सरकार शिक्षा, स्वास्थ्य व महिलाओं की सुरक्षा के बजट में बढ़ोतरी कर सकती है।

Union Budget Highlights 2019 : मिठाई, फास्ट फूड व सोडा पर सरकार बढ़ा सकती है टैक्स, इन क्षेत्रों में दे सकती है छूट
X
Nirmala Sitharaman

मोदी सरकार-2 (Modi Sarkar-2) को आगामी बजट 2019 (Union Budget 2019) में कुछ खाद्य पदार्थ पर टैक्स बढ़ाने के सलाह मिले हैं। मीडिया सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि आगामी बजट (Aam Budget 2019) में केंद्र सरकार मिठाई, नमकीन व सोडायुक्त कोल्ड ड्रिंक्स पर टैक्स में बढ़ोतरी कर सकती है। इन क्षेत्रों से जुड़े विश्लेषकों का कहना है कि इन चीजों पर टैक्स बढ़ाकर सरकार शिक्षा, स्वास्थ्य व महिलाओं की सुरक्षा के बजट में बढ़ोतरी कर सकती है।

विशेषज्ञों ने दी सलाह

बजट से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने बैठक की थी जिसमें आर्थिक विशेषज्ञों ने कहा कि मीठे, नमकीन व कोल्ड ड्रिंक्स पर ज्यादा टैक्स बढ़ाकर स्वास्थ्य क्षेत्र के टैक्स में कटौती की जा सकती है। साथ ही चिकित्सा क्षेत्र में मुफ्त में जांच व रोगियों के लिए फंड आदि की व्यवस्था की जा सकती है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कहा कि हमारी सरकार शिक्षा के क्षेत्र (Education) में सुधार लाने की कोशिश करेगी वहीं रोजगार (Employment) बढ़ाने की दिशा में भी काम करने का लक्ष्य निर्धारण करेगी। साथ ही युवाओं में कौशल और रोजगार के अवसर बढ़ाने पर काम किया जाएगा। विशेषज्ञों ने सलाह दिया कि अन्य वस्तुओं पर टैक्स बढ़ाकर शिक्षा, स्वास्थ्य पर ध्यान दिया जा सकता है।

जीएसटी को सरल बनाने की जरूरत

बजट विश्लेषकों का कहना है कि सरकार को इस वित्त वर्ष (Financial Year 2019-20) में जीएसटी (GST) को औऱ सरल बनाने की जरूरत है। साथ ही प्रत्यक्ष कर संहिता व रोजगार सृजन के अवसर पर ध्यान देने की जरूरत है। विश्लेषकों का कहना है कि सरकार को इस दिशा में बजट तैयार करना चाहिए कि वह आऩे वाले 5 सालों में आम जनता को दिखाई दे।

सोडा जैसे पेय पदार्थों पर टैक्स बढ़ाने की जरूरत

विशेषज्ञों का मानना है कि कई देशों में सोडा टैक्स लगाया जाता है। इसलिए हमें भी इस दिशा में सोचने की जरूरत है। अमेरिका, कोलंबिया, डेनमार्क, फ्रांस, हंगरी, मैक्सिको, नार्वे, साउथ अफ्रीका, ब्रिटेन, यूएई जैसे 20 से भी अधिक देशों में फास्टफूड व सोडा जैसे पदार्थों पर 50 प्रतिशत से ज्यादा का टैक्स लगाया जाता है। इन टैक्सों से आए धन से अन्य क्षेत्रों में सुधार किया जाता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story