Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड के अध्यक्ष ने सबरीमाला मंदिर को खोलने को लेकर दिया बड़ा बयान

अध्यक्ष एन. वासु का कहना है कि हमने सबरीमाला मंदिर के दोनों 'तांत्रिकों' के साथ चर्चा की है।

त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड के अध्यक्ष ने सबरीमाला मंदिर को खोलने को लेकर दिया बड़ा बयान
X

त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड के अध्यक्ष एन. वासु ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर को लेकर बयान दिया है। अध्यक्ष एन. वासु का कहना है कि हमने सबरीमाला मंदिर के दोनों 'तांत्रिकों' के साथ चर्चा की। उनके परामर्श और सहयोग से हमने 19 जून से मासिक पूजा और मंदिर उत्सव के शेड्यूल के साथ आगे बढ़ने का निर्णय लिया है।

उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान कार्यक्रम के अनुसार मंदिर उत्सव 19 जून से शुरू होगा। इससे पहले 14 जून से मासिक पूजा होगी। 20 जून को पंपा नदी में अरत समारोह आयोजित किया जाएगा।

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश वर्जित

बता दें कि सबरीमाला मंदिर में उन महिलाओं का प्रवेश वर्जित जिन्हें पीरियड्स आते हैं। क्योंकि भगवान अयप्पा को ब्रह्मचारी और तपस्वी माना जाता है। इसलिए मंदिर में 10 से कम और 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति है।

कौन थे भगवान अयप्पा?

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान अयप्पा के पिता शिव और माता मोहिनी हैं। शिव और विष्णु से उत्पन होने के कारण भगवान अयप्पा को 'हरिहरपुत्र' के नाम से भी जाना जाता है। हरिहरपुत्र के अलावा भगवान अयप्पा को अयप्पन, शास्ता, मणिकांता नाम से भी जाना जाता है।

Next Story