Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Trade Union Strike: 8 जनवरी को ट्रेड यूनियन का भारत बंद, इन जगहों पर मिलेंगे ताले लगे

10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने 8 जनवरी 2020 को भारत बंद का ऐलान किया है।

Bharat Bandh: महिला ने दिखाई बहादुरी, आंखों में लाल मिर्च डालकर भगाया प्रदर्शनकारियों कोभारत बंद

10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने 8 जनवरी 2020 को भारत बंद का ऐलान किया है। देशव्यापी बंद अपनी लंबे समय से लंबित मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन के लिए बुलाया गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 14 लंबित मांगों को लेकर देशभर के हजारों कर्मचारियों ने अखिल भारतीय हड़ताल में भाग लेने का फैसला किया है।

बीती 3 जनवरी को कुल 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने 8 जनवरी को भारत बंद का आह्वान किया था। केंद्रीय नेताओं ने श्रम मंत्री से मुलाकात करने के एक दिन बाद देशव्यापी हड़ताल का आह्वान कर सरकार के विरोधी संगठनों के बीच बातचीत हुई थी।

देशव्यापी विरोध का आह्वान यूनियनों ने अपनी लंबे समय से लंबित मांगों को लेकर किया है। श्रमिकों की मुख्य मांग है कि सरकार प्रस्तावित श्रम सुधारों को छोड़ दे। सरकारी कर्मचारी, बैंक कर्मचारी, शिक्षक और विभिन्न क्षेत्रों के कर्मचारी इसमें शामिल हैं। बुधवार को बैंकिंग परिचालन में तेजी आने की उम्मीद है क्योंकि श्रमिक विरोध में शामिल होंगे। हालांकि, ऑनलाइन लेनदेन में बाधा नहीं आएगी।

मी़डिया रिपोर्टों के मुताबिक,, औद्योगिक संबंधों पर श्रम संहिता को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने नवंबर 2018 में मंजूरी दी गई थी। सुधारों को श्रम संघों को मान्यता देना है। ट्रेड यूनियनों ने बुधवार को आहूत अखिल भारतीय आम हड़ताल का उद्देश्य इन श्रमिकों की अधूरी मांगों पर सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए किया है।

रिपोर्टों से पता चलता है कि यूनियनों की कुछ अन्य मांगों में न्यूनतम वेतन में 21,000 रुपये प्रति माह 24,000 रुपये की बढ़ोतरी शामिल है और वहीं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण को रोकना।

ये संगठन हैं शामिल

प्रतिभागियों में सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियंस (सीटू), ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर (एआईयूटीयूसी), हिंद मजदूर सभा (एचएमएस), सेल्फ-एम्प्लॉइड वुमेन्स एसोसिएशन (एसईडब्ल्यूए), ऑल इंडिया ट्रेड ट्रेड यूनियन शामिल हैं। कांग्रेस, लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन अन्य संगठन शामिल हैं।


Next Story
Top