Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वायरस निगेटिव होने के सर्टिफिकेट पर ही बुक होंगे होटल-टैक्सी, केवल कैशलेस होगा ट्रांजैक्शन

होटल में ठहरने के लिए मेडिकल सर्टिफिकेट अनिवार्य किए जाने की तैयारी है। ड्राफ्ट में अधिक से अधिक डिजिटल टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल पर जोर दिया गया है। सूत्रों की मानें तो जून के महीने से टूरिज्म गतिविधियों को शर्त के साथ शुरू किया जा रहा है। सरकार इसी ड्राफ्ट को कुछ संशोधन के साथ लागू कर सकती है।

कोरोना वायरस निगेटिव होने के सर्टिफिकेट पर ही बुक होंगे होटल-टैक्सी, केवल कैशलेस होगा ट्रांजैक्शन
X

देश में कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन 4.0 में लोगों की कुछ राहत दी गई है। इसी क्रम में 22 मार्च से बंद टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री को फिर से शुरू होने जा रही है। खबरों से मिली जानकारी के मुताबिक, टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री को फिर से शुरू करने के लिए केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय ने ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। एक समाचार पत्र के मुताबिक, होटल रिसेप्शन और टूर एंड ट्रेवल्स का ऑफिस बिल्कुल अस्पताल के काउंटर की तरह होगा। होटल या टैक्सी वो पर्यटक ही बुक कर सकेंगे जिनमें कोरोना वायरस (कोविड-19) के लक्षण नहीं है।

मेडिकल सर्टिफिकेट होगी अनिवार्य

खबरों से मिली जनकारी के मुताबिक, होटल में ठहरने के लिए मेडिकल सर्टिफिकेट अनिवार्य किए जाने की तैयारी है। ड्राफ्ट में अधिक से अधिक डिजिटल टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल पर जोर दिया गया है। सूत्रों की मानें तो जून के महीने से टूरिज्म गतिविधियों को शर्त के साथ शुरू किया जा रहा है। सरकार इसी ड्राफ्ट को कुछ संशोधन के साथ लागू कर सकती है।

कुछ अनिवार्य नियमों के अलावा सुझाव भी दिए जाएंगे

खास बात यह है कि अब होटलों और ट्रैवल एजेंसियों को यात्री की पूरी ट्रैवल हिस्ट्री (किससे मिला, कहां गया) लॉगबुक बनाकर रखनी होगी। ड्राफ्ट भविष्य को ध्यान में रखकर बनाया गया है। इसमें रिस्क कम करने के साथ गेस्ट ट्रेसिंग को आसान बनाने पर जोर दिया गया है। कुछ अनिवार्य नियमों के अलावा सुझाव भी दिए जाएंगे, जिन्हें राज्य और केंद्र शासित प्रदेश आवश्यकतानुसार लागू करेंगे।

पर्यटन और होटलों को लेकर ये अहम बदलाव

* बताया जा रहा है कि होटल और पर्यटन से संबंधी बुकिंग कराते समय बताना पड़ेगी की उन्हें कोरोना वायरस तो नहीं है। इसके लिए मेडिकल सर्टिफिकेट मांगा जा सकता है।

* यात्री का पूरा रिकॉर्ड, ट्रैवल हिस्ट्री की लॉगबुक बनाना अनिवार्य होगा।

* हर यात्री की उम्र, हेल्थ हिस्ट्री, एलर्जी का रिकॉर्ड रखा जाएगा।

* यात्रियों के आने-जाने की जगह, मिलने वाले लोगों का नाम-पता, ठहरने आदि की तमाम डिटेल रखना जरूरी होगा।

* हर एंगल पर सीसीटीवी लगे होंगे ताकि पर्यटक का मूवमेंट पता रहे।

* टूरिज्म सर्विस प्रोवाइडर के ऑफिस और होटल परिसर को लगातार सैनिटाइज किया जाए

* होटल में प्रवेश से पहले स्क्रीनिंग-सैनिटाइजेशन जरूरी है। तभी होटल में प्रवेश मिलेगा।

* होटलों में पूरी तरह ट्रांजेक्शन कैशलेस होगा। इसकी बुकिंग केवल ऑनलाइन होगी।

* वाहनों में जरूरी होंगे डिस्पोजेबल सीट कवर

* छोटे ग्रुपों में होगा पर्यटन, आईडी का प्रिंट नहीं देना होगी।

* सामाजिक दूरी के लिए 10 से 15 लोगों से अधिक बड़ा ग्रुप स्वीकार नहीं किया जाएगा।

* ट्रैवल एजेंसी से जुड़े हर ड्रायवर के पास हेल्थ सर्टिफिकेट होना अनिवार्य होगा।

Next Story