Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

टीएमसी ने जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे की हत्या को 'अग्निपथ स्कीम' से जोड़ा, जानें मुखपत्र जागो बांग्ला में क्या कुछ कहा

लेख में कहा गया है कि शिंजो आबे की हत्या भारत की अग्निपथ (Agnipath Scheme) पहल के खिलाफ प्रतिरोध को मजबूत करेगी क्योंकि उसे मारने वाले ने बिना पेंशन के अनुबंध के तहत सेना में काम किया था।

टीएमसी ने जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे की हत्या को अग्निपथ स्कीम से जोड़ा, जानें मुखपत्र जागो बांग्ला में क्या कुछ कहा
X

तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के मुखपत्र 'जागो बांग्ला' (Jago Bangla) ने अपने बंगाली लेख में 'शिज़ो की हत्या में अग्निपथ छाया' (Shizo Killing in Agnipath Shadow) शीर्षक से भारत में रक्षा भर्ती के लिए नई शुरू की गई अग्निपथ योजना के साथ पूर्व जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे (former Japanese Prime Minister Shinzo Abe) की हत्या से जोड़ा है। लेख में कहा गया है कि शिंजो आबे की हत्या भारत की अग्निपथ (Agnipath Scheme) पहल के खिलाफ प्रतिरोध को मजबूत करेगी क्योंकि उसे मारने वाले ने बिना पेंशन के अनुबंध के तहत सेना में काम किया था।

यह महत्वपूर्ण है कि केंद्र भी रक्षा में लोगों को उसी तरह भर्ती करने की कोशिश कर रहा है जिससे पूरे देश में बड़े पैमाने पर हलचल हुई है। इस योजना के तहत लोग केवल 4.5 वर्षों के लिए कार्यरत रहेंगे। सेवानिवृत्ति के बाद उन्हें कोई पेंशन और अन्य लाभ नहीं मिलेगा। लेख में आगे दावा किया गया है कि शिजो आबे के हत्यारे 41 वर्षीय तेत्सुया यामागामी तीन साल तक जापान की समुद्री आत्मरक्षा में काम किया लेकिन बाद में उसे कोई नौकरी नहीं मिली। लेख में दावा किया गया है कि उसने पुलिस को सूचित किया कि वह अपनी नौकरी गंवाने के बाद शिंजो आबे से नाराज था।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि बीते शुक्रवार को जापान के नारा शहर में पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान 41 वर्षीय तेत्सुया यामागामी ने पूर्व प्रधानमंत्री को के सीने में गोली मार दी। इसके बाद उन्हें कार्डियक अरेस्ट भी आ गया था। इसके बाद पूर्व पीएम को तत्काल इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। 5 से 6 घंटे के इलाज के बाद अस्पताल में उनका निधन हो गया। हालांकि, पुलिस ने तेत्सुया यामागामी को मौके से गिरफ्तार कर लिया। जापानी मीडिया के अनुसार, यामागामी ने मौके से भागने का प्रयास नहीं किया। उसने जांचकर्ताओं को बताया कि वह आबे से असंतुष्ट था और उसे मारना चाहता था। हालांकि, वह आबे की राजनीतिक मान्यताओं से नाराज नहीं था।

और पढ़ें
Next Story