Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

टेक्सटाइल सेक्टर पर मंदी की मार, करोड़ों लोगों के रोजगार पर लटकी तलवार

ऑटोमोबाइल सेक्टर वर्तमान समय में भारी मंदी की मार झेल रहा है, लेकिन इसका असर अब कताई उद्योग पर भी देखने को मिल रहा है। टेक्सटाइल उद्योग संघ ने अपनी बात सरकार तक पहुंचाने के लिए अखबार में विज्ञापन का सहारा लिया है।

टेक्सटाइल सेक्टर पर मंदी की मार, करोड़ों लोगों के रोजगार पर लटकी तलवार
X

ऑटोमोबाइल सेक्टर वर्तमान समय में भारी मंदी की मार झेल रहा है। लेकिन इसका असर अब कताई उद्योग पर भी देखने को मिल रहा है। टेक्सटाइल उद्योग संघ ने अपनी बात सरकार तक पहुंचाने के लिए अखबार में विज्ञापन का सहारा लिया है।

टेक्सटाइल उद्योग संघ ने इंडियन एक्सप्रेस अखबार मे ये विज्ञापन देकर कहा कि हम डूब रहे हैं, कंगाल हो रहे हैं। उद्योग सबसे बड़े संकट से गुजर रहा है जिसके कारण बड़ी संख्या में नौकरियां जा रही हैं। इससे पहले 2010-11 में भी कताई उद्योग में मंदी देखने को मिली थी। भारतीय टेक्सटाइल इंडस्ट्री में करीब 10 करोड़ लोगों ने रोजगार पाया हुआ है।

विज्ञापन आधे पन्ने में छपा है, जिसमें नौकरियां जाने के बाद फैक्ट्री से बाहर आते लोगों का स्केच बनाया गया है। साथ ही यह भी लिखा है कि एक तिहाई धागा मिलें बंद हो चुकी हैं। लेकिन जो कोई चल भी रही है तो वह भारी नुकसान में हैं। वह ऐसी स्थिति से गुजर रही हैं, भारतीय कपास भी नहीं खरीद पा रही हैं। इसका असर कपास के किसानों पर भी होगा।


वहीं इसको लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मोदी सरकार के पांच ट्रिलियन इकोनॉमी की ओर बढ़ते कदम: टेक्सटाइल मिल एसोसिएशन ने इंडियन एक्सप्रेस में विज्ञापन देकर दर्शायी अर्थव्यवस्था की पीड़ा। अर्थव्यवस्था बदहाल, रोजगार खत्म, बंद होते उद्योग, ऊंची ब्याज दर, ऊंची लागत, कपड़ों और यार्न के सस्ते आयात से तबाह उद्योग #NewIndia

बता दें कि केंद्र सरकार ने देश में करोड़ों लोगों को नौकरी देने का बादा किया था, पर उल्टा लोगों की नौकरियां जा रही हैं। नतीजा सामने है। बता दें कि कृषि के बाद सबसे अधिक रोजगार लोग टेक्सटाइल में पाते हैं। लेकिन वह इतने संकट से जूझ रहा है कि सरकार तक अपनी बात पहुचाने के लिए विज्ञापन का सहारा लेना पड़ा रहा है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story