Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू-कश्मीर में साल 2018 में आतंकवादी घुसपैठ की कोशिश बीते 5 साल में सबसे ज्यादा : गृह मंत्रालय

गृह मंत्रालय ने 2018-19 की उपलब्ध रिपोर्ट में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में साल 2018 में 257 आतंकवादी मारे गए और 91 जवान शहीद हुए, जो बीते 5 सालों में सबसे अधिक है।

जम्मू-कश्मीर में साल 2018 में आतंकवादी घुसपैठ की कोशिश बीते 5 साल में सबसे ज्यादा : गृह मंत्रालय
X
गृह मंत्रालय रिपोर्ट- आतंकी घुसपैठ

गृह मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि साल 2018 में जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के आतंकवादी समूहों ने 328 बार घुसपैठ की कोशिश की, जोकि पिछले पांच साल में सबसे अधिक है। 328 में से आतंकवादी समहू 143 प्रयासों में सफल रहे।

मिली जानकारी के मुताकि यह जानकारी गृह मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट में दी गई है। गृह मंत्रालय ने 2018-19 की उपलब्ध रिपोर्ट में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में साल 2018 में 257 आतंकवादी मारे गए और 91 जवान शहीद हुए, जो बीते 5 सालों में सबसे अधिक है। इस अवधि के दौरान 39 आम लोगों की भी मौत हुई है।

2017 में घुसपैठ के 419 प्रयास किए गए

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान के आतंकवादी समूहों ने वर्ष 2018 में 328 बार जम्मू-कश्मीर में घुसने की कोशिश की, जिनमें से 143 प्रयासों में वे सफल रहे। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2017 में घुसपैठ के 419 प्रयास किए गए, जिनमें से 136 सफल रहे थे।

वर्ष 2016 में घुसपैठ की 371 कोशिशें की गईं थी, जिनमें 119 सफल रहीं थी। वहीं 2015 में 121 बार घुसपैठ का प्रयास किया गया, जिनमें से 33 में वे सफल रहे। 2014 में 222 बार घुसपैठ की कोशिश हुई जिसमें उनकी 65 कोशिशें सफल रहीं।

614 आतंकी घटनाओं में कुल 257 आतंकवादी मारे गए

रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018 में जम्मू-कश्मीर में हुई 614 आतंकी घटनाओं में कुल 257 आतंकवादी मारे गए, 91 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए और 39 नागरिकों की जान चली गई। जम्मू-कश्मीर में 2018 में जवान शहीद, आतंकवादियों के ढेर होने और आतंकी घटनाओं के आंकड़े बीते 5 सालों में सबसे अधिक रहे हैं।

वहीं 2017 में 342 आतंकी घटनाएं हुईं, जिनमें 213 आतंकवादी मारे गए, 80 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए और 40 नागरिकों की जान चली गई। इसी प्रकार 2016 में हुईं 322 आतंकी घटनाओं में 150 आतंकवादी मारे गए, 82 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए और 15 आम लोगों की मौत हुई जबकि 2015 में 208 आतंकी घटनाएं हुईं, जिनमें 108 आतंकवादी मारे गए, 39 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए और 17 लोगों की जान गई।

2014 में जम्मू-कश्मीर 222 आतंकी घटनाएं हुईं

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2014 में जम्मू-कश्मीर 222 आतंकी घटनाएं हुईं, जिनमें 110 आतंकवादी ढेर हुए, 47 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए और 28 आम लोगों की मौत हुई। गृह मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है, "जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद की शुरुआत (1990 में) के बाद से 31 मार्च 2019 तक 14,024 लोगों की मौत हो चुकी है और 5,273 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story