Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Terror Funding Case: NIA की रिपोर्ट में अलगाववादियों को लेकर बड़ा खुलासा, हाफिज सईद से थे कनेक्शन

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकी फंडिंग (Terror Funding) को लेकर कई अलगागवादी नेताओं का लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद (Hafiz Saeed) से आतंक फैलाने के नाम पर पैसा मिलने के सबूत मिले हैं।

Terror Funding Case: NIA की रिपोर्ट में अलगाववादियों को लेकर बड़ा खुलासा, हाफिज सईद से थे कनेक्शन

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकी फंडिंग (Terror Funding) को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है। जिसमें एक बड़ा खुलासा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए कई अलगागवादी नेताओं को लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद (Hafiz Saeed) से पैसा मिलता था। इस लिस्ट में अलगावदी नेता यासीन मलिक, शब्बीर अहमद शाह समेत कई नेता हैं।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी की रिपोर्ट में कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए अलगावादी नेताओं को पाकिस्तान से पैसा आता था। इसमें प्रमुख नाम 26/11 हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद का है।

यूएपीए कानून के तहत होगी कार्रवाई

इस खुलासे के बाद एनआईए अब इन अलगाववादी नेताओं पर यूएपीए कानून के तहत आरोप दर्ज होंगे और एनआईए इसकी रिपोर्ट दर्ज करेगी। टीम ने 214 पेज की रिपोर्ट तैयार की है। जिसमें फंडिंग, पत्थरबाजों को पैसे के लेन-देन के पुख्ता सबूत मिले हैं।

ऐसे हुआ खुलासा

बता दें कि ये खुलासे यासीन मलिक की डिजिटल डायरी से हुए हैं। यासीन मलिक कश्मीर में एक मुख्य अलगाववादी नेता है जो इस वक्त दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है।

गृह मंत्रालय ने मंजूरी

गृह मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के अध्यक्ष यासीन मलिक, दुख्तारन-ए-मिलत प्रमुख असिया अंद्राबी और ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के महासचिव शरत आलम के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम के तहत मुकदमा चलाने की मंजूरी देने के लिए तैयार है। 2010 और 2016 में आतंकवादी गतिविधियों और पथराव करने के लिए पाकिस्तान से फंडिंग के बाद जांच शुरू हो गई थी।

Next Story
Top