Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कृष्णपाल सिंह के नाम से पुकारे जाने वाले चिन्मयानंद, इस तरह बने विशाल साम्राज्य के 'स्वामी'

अवध के राजघराने से ताल्लुक रखने वाले स्वामी चिन्मयानंद का जन्म उत्तर प्रदेश के गोंडा में 3 मार्च 1947 हो हुआ था। स्वामी चिन्मयानंद का असली नाम कृष्णपाल है जो कि वर्तमान में स्वामी चिन्मयानंद के नाम से जाने जाते हैं।

कृष्णपाल सिंह के नाम से जानने वाले स्वामी चिन्मयानंद, इस तरह बने विशाल साम्राज्य के स्वामी
X
swami chinmayananda know everything about shinmayananda life

भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) (भाजपा) के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayananda) को आज शाहजहांपुर (Shahjahanpur) की लॉ कॉलेज की छात्रा से रेप के आरोप में उत्तर प्रदेश पुलिस और एसआईटी (SIT) की टीम ने गिरफ्तार कर लिया गया है। टीम ने चिन्मयानंद को उसके आश्रम से गिरफ्तार किया है। जिसके बाद उसकी कोर्ट में पेशी कराई गई जहां से चिन्मयानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

मामला बीते अगस्त से ही चल रहा है। इसके बाद भी कई लोग को मालूम नहीं है कि स्वामी चिन्मयानंद कौन हैं? कहां से आए? चिन्मयानंद राजनीति में आने पहले क्या करते थे। गृह राज्यमंत्री कैसे बने और शाहजहांपुर में अपना इतना विशाल साम्राज्य कैसे खड़ा किया। तो चलिए आपको चिन्मयानंद के बारे में सब कुछ बताते हैं...

चिन्मयानंद इस तरह बने विशाल साम्राज्य के 'स्वामी'

अवध के राजघराने से ताल्लुक रखने वाले स्वामी चिन्मयानंद का जन्म उत्तर प्रदेश के गोंडा में 3 मार्च 1947 हो हुआ था। स्वामी चिन्मयानंद का असली नाम कृष्णपाल है जो कि वर्तमान में स्वामी चिन्मयानंद के नाम से जाने जाते हैं। भाजपा के कद्दावर नेताओं में शुमार चिन्मयानंद ने लखनऊ विश्वविद्यालय से एमए किया है। बताया गया है कि चिन्मयानंद ने युवावस्था में बुद्ध और महावीर से प्रभावित होने के बाद राजघराने नाता तोड़ दिया था।

पहली बार चुनाव लड़ा और जीता

चिन्मयानंद ने साल 1991 में उत्तर प्रदेश की बदायूं लोकसभा सीट से भाजपा के टिकट पर पहली बार चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। इसके बाद चिन्मयानंद ने 1998 में मछलीशहर और 1999 में जौनपुर लोकसभा सीट से सांसद चुने गए। बाद में चिन्मयानंद को वाजपेयी सरकार में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री बनाया गया।

राम मंदिर आंदोलन में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने वाले चिन्मयानंद ने आंदोलन में पीठ के महंत और पूर्व सांसद अवैद्यनाथ के साथ मिलकर बड़ी भूमिका निभाई थी। बताया जाता है कि चिन्मयानंद के सांसद बनने में महंत अवैद्यनाथ की अहम भूमिका थी। जिस वजह से वह सीएम योगी के बेहद करीबी थे। उत्तर प्रदेश में साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को ऐतिहासिक जीत मिली थी उस दौरान चिन्मयानंद ने प्रदेश में सीएम पद के लिए योगी आदित्यनाथ का नाम आगे किया था।

चिन्मयानंद ने शाहजहांपुर में स्थित अपने एसएस लॉ कॉलेज को यूनिवर्सिटी बनाने के लिए योगी सरकार को राजी कर लिया था। इसी बीच इसी कॉलेज की छात्रा ने चिन्मयानंद उनके खिलाफ वीडियो जारी करते हुए यौन शोषण और बलात्कार जैसे बड़े आरोप लगा दिए। चिन्मयानंद पर साल 2011 में एक महिला उनपर इस तरह के आरोप लगा चुकी है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story