Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सुषमा स्वराज का जीवन परिचय

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता, दिल्ली की पहली मुख्यमंत्री और भारत सरकार की सबसे प्रबल पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात कार्डियक अरेस्ट (दिल का दौरा) पड़ने से एम्स अस्पताल में निधन हो गया। दिल का दौरा होने पर उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती किया गया था।

सुषमा स्वराज का जीवन परिचय
X

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता, दिल्ली की पहली मुख्यमंत्री और भारत सरकार की सबसे प्रबल पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात कार्डियक अरेस्ट (दिल का दौरा) पड़ने से एम्स अस्पताल में निधन हो गया। दिल का दौरा होने पर उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती किया गया था। जहां उन्हें इलाज के बाद डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। एम्स में भर्ती होने के दौरान कई भाजपा नेता उनसे मिलने अस्पताल पहुंच गए। तो वहीं पीएम मोदी ने उनके निधन पर ट्वीट कर शोक जताया है। उनके अंतिम दर्शन के लिए भाजपा ही नहीं विपक्षी दलों के नेता भी उनके आवास पर अंतिम दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं।

सुषमा स्वराज का जीवन परिचय (Sushma Swaraj Biography)

भारतीय जनता पार्टी की सबसे वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 को हरियाणा के अंबाला छावनी हुआ। उनके पिता हरदेव शर्मा और माता लक्ष्मी देवी थी। उनके पिता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक प्रतिष्ठित सदस्य थे। उन्होंने राजनीति विज्ञान और संस्कृत के साथ बीए में ग्रेजुएशन की। उन्होंने अपनी पढ़ाई अंबाला छावनी महाविद्यालय से ग्रेजुएशन की। चंडीगढ़ में पंजाब विश्वविद्यालय के कानून विभाग से उन्होंने एलएलबी में डिग्री की पढ़ाई की।

इसके अलावा उनकी रूचि शास्त्रीय संगीत, कविता, ललित कला और नाटक शामिल हैं। वह कविता और साहित्य में भी गहरी रूचि रही है। सुषमा स्वराज को एनसीसी का सर्वश्रेष्ठ कैडेट रही हैं। हरियाणा के भाषा विभाग में उन्हें लगातार तीन साल तक सर्वश्रेष्ठ हिंदी अध्यक्ष का पुरस्कार जीता। वह ए सी बाली मेमोरियल डिक्लेरेशन प्रतियोगिता में पंजाब विश्वविद्यालय की हिंदी में सर्वश्रेष्ठ वक्ता भी रही और वो इतना ही नहीं संसद में भी उनके भाषण को सभी ध्यान से सुनते थे। उन्होंने बयानबाजी प्रतियोगिता, वाद-विवाद, गायन, नाटक और अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में भी काफी अवॉर्ड जीते हैं। वह चार साल तक हरियाणा राज्य के हिंदी साहित्य सम्मेलन की अध्यक्ष रहीं।

सुषमा स्वराज का परिवारिक जीवन सफर (Sushma Swaraj Personal Life)

सुषमा स्वराज एक वकील थी। 13 जुलाई 1975 को भारत के सर्वोच्च न्यायालय के एक वरिष्ठ वकील स्वराज कौशल से उन्होंने शादी की। स्वराज कौशल 1990 में देश के सबसे युवा राज्यपाल बने। 1990 से 1993 के दौरान स्वराज कौशल ने राज्यपाल के रूप में मिजोरम का जिम्मा संभाला। इसके बाद 1998 से 2004 तक वो संसद सदस्य रहे वहीं इन दोनों की बेटी बंसुरी कौशल, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में लॉ में बैरिस्टर हैँ।

सुषमा स्वराज ने कैसे शुरू किया राजनीतिक सफर (Sushma Swaraj Political Beginning)

सुषमा स्वराज ने 1970 में एक छात्र नेता के रूप में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। इंदिरा गांधी की सरकार के खिलाफ कई विरोध प्रदर्शनों में उन्होंने हिस्सा लिया। वो एक असाधारण वक्ता और प्रचारक थी। जो बाद में जनता पार्टी में शामिल हुई। आपातकाल के खिलाफ अभियान में सक्रिय रूप से उन्होंने भी अहम भूमिका निभाई थी। उन्हें दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री और बाद में विपक्ष की पहली महिला नेता के रूप में उनका नाम दर्ज है। वो 27 साल की सबसे कम उम्र में हरियाणा में जनता पार्टी की अध्यक्ष रहीं।

सुषमा स्वराज का राजनीतिक करियर (Sushma Swaraj Political Journey)

भारतीय राजनीति में महिला नेताओं में प्रमुख रही सुषमा स्वराज ने भारतीय जनता पार्टी से अपना राजनीतिक करियर शुरू किया था। वो साल 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद मोदी सरकार में विदेश मंत्री रहीं। उन्होंने 6 बार संसद कार्य किया। 15 वीं लोकसभा में विपक्ष की नेता रहीं। वह साल 1977-1982 और 1987-1990 के दौरान दो बार हरियाणा से भाजपा के टिकट पर महिल विधायक बनीं। उसके बाद साल और उसके बाद साल 1998 में देश की राजधानी दिल्ली की पहली मुख्यमंत्री के तौर पर जिम्मेदारी संभाली। उनका राजनीतिक करियर काफी उतार चढ़ाव वाला रहा है। वो सत्ता पक्ष के सदस्य और विपक्ष में प्रमुख नेताओं के पद पर हमेशा तेज और तर्र दिखी। यूपीएक सरकार के दौरान वो सरकार की हमेशा तीखी आलोचना करती दिखी। साल 1977 में सुषमा स्वराज 25 साल की उम्र में सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री का दर्जा हासिल है। 1996 में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में उन्हें सूचना और प्रसारण मंत्री बनाया गया। केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में भी उन्होंने जिम्मेदारी निभाई है। अंतिम समय तक वो पार्टी की अखिल भारतीय सचिव और पार्टी की आधिकारिक प्रवक्ता की जिम्मेदारी निभाई।

सुषमा स्वराज को मिले कई पुरस्कार (Sushma Swaraj Awards)

हरियाणा राज्य विधानसभा द्वारा उन्हें सर्वश्रेष्ठ स्पीकर का पुरस्कार दिया गया है। साल 2008 और 2010 में दो बार सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार मिल चुका है। वो पहली एक मात्र महिला सांसद हैं, जिन्हें 'उत्कृष्ट सांसद' का पुरस्कार भी मिल चुका है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story