Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Sushant Singh Rajput: सुशांत के मामले में CBI ने दर्ज की FIR, जानें SIT में शामिल अधिकारी क्यों हैं सबसे बेस्ट

Sushant Singh Rajput: सुशांत सिंह राजपूत के मामले में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है। सूत्रों के मुताबिक, इस मामले में 6 आरोपियों व अन्य पर एफआईआर दर्ज किया है।

Sushant Singh Rajput: सुशांत के मामले में CBI ने दर्ज की FIR, जानें SIT में शामिल अधिकारी क्यों हैं सबसे बेस्ट
X
केंद्रीय जांच ब्यूरो (फाइल फोटो)

Sushant Singh Rajput: सुशांत सिंह राजपूत के मामले में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है। सूत्रों के मुताबिक, इस मामले में 6 आरोपियों व अन्य पर एफआईआर दर्ज किया है। साथ ही इस जांच के लिए सीबीआई ने एसआईटी का भी गठन किया है। बता दें कि एसआईटी की टीम में जिन अधिकारियों को शामिल किया गया है, उनकी गिनती सीबीआई के सबसे बेहतरीन अफसरों में की जाती है।

एसआईटी का गठन

जानकारी मिली है कि सीबीआई ने सुशांत मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है। इसे आईपीएस मनोज शशिधर हेड करेंगे। वहीं मनोज शशिधर को इस मामले में डीआईजी गगनदीप खुद असिस्ट करेंगी और जांच अधिकारी अनिल यादव भी इसमें अपना सहयोग देंगे। बता दें कि इन्होंने ही विजय माल्या मामले की भी जांच की थी।

कौन हैं मनोज शशिधर

मनोज शशिधर 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। इसके अलावा मनोज शशिधर सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर भी हैं। बता दें कि मनोज शशिधर हाई रिस्क और हाई टेंशन के वातावारण में भी काम कर सकते हैं। उनकी गिनती बेहतरीन अफसरों में की जाती है।

उन्हें इस जनवरी में ही सीबीआई का जॉइंट सेक्रेटरी बनाया गया है। इससे पहले वो गुजरात में सीआईडी के डीजीपी थे। मनोज शशिधर ने अपनी जिंदगी में कई महत्वपूर्ण मामलों की जांच की। इसके अलावा जानकारी ये भी मिली है कि अपने करियर में उनकी कोई भी जांच असफल नहीं हुई।

कौन हैं गगनदीप गंभीर

डीआईजी गगनदीप के बारे में सबसे अच्छी बात ये है कि वो कभी किसी राजनीतिक दबाव में नहीं आती। इससे पहले उन्होंने उत्तरप्रदेश के अवैध खनन मामले में जांच की थी। ये कहना बुरा नहीं होगा कि उन्हें घोटाले के मामलों में निपुणता हासिल है। जानकारी मिली है कि उन्हें इसलिए इस केस की जिम्मेदारी सौंपी गई है क्योंकि इस मामले में एक महिला पर केस दर्ज किया गया है। जिसके लिए एक महिला अफसर का होना अनिवार्य है।

कौन हैं अनिल यादव

डीएसपी अनिल यादव ने मध्यप्रदेश कैडर से टीम को जॉइन किया है। उन्हें मर्डर मामलों में विशेषज्ञ की संज्ञा दी जा सकती है। बता दें कि 2015 में उन्हें अपनी सेवा के लिए पुलिस मेडल भी मिल चुका है। इस केस में भी वो जांच अधिकारी की भूमिका निभाएंगे।

Next Story