Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Surgical Strike 3 Years : मोदी सरकार की सर्जिकल स्ट्राइक से हिल गया था पाकिस्तान, ऐसे किया था पूरा प्लान तैयार

जम्मू कश्मीर के उरी (Uri Attack) सेक्टर में 18 सितंबर को सेना के 12 ब्रिगेड के एडमिनिस्ट्रेटिव स्टेशन पर आतंकी हमले के बाद मोदी सरकार (Modi Govt) ने आतंकवादियों को करारा जबाव देने के लिए पीओके में घुसकर आतंकवाद पर सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) की थी।

मोदी सरकार की सर्जिकल स्ट्राइक से हिल गया था पाकिस्तान, ऐसे किया था पूरा प्लान तैयारSurgical Strike ‎Pakistan Shocked Modi government plan destroyed terrorist camps

Surgical Strike 3 Years/जम्मू कश्मीर के उरी सेक्टर (Uri Attack) में 18 सितंबर को सेना के 12 ब्रिगेड के एडमिनिस्ट्रेटिव स्टेशन पर आतंकी हमले के बाद मोदी सरकार (Modi Govt) ने आतंकवादियों को करारा जबाव देने के लिए पीओके (POK) में घुसकर आतंकवादियों को करारा जवाब दिया था। जिसे पहली सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) कहा गया। क्योंकि पहली बार भारत ने पीओके में घुसकर आतंकी कैपों को निशाना बनाया था।

भारत ने पाकिस्तान को दिए थे सबूत

उरी में हुए आतंकी हमले के बाद कई ऐसे सबूत मिले। जिनसे साबित हो गया कि हमला पाकिस्तान से आए आतंकवादियों ने किया है। लेकिन पाकिस्तान यह मानने को तैयार नहीं था। ऐसे में भारत ने कड़ा रूख अपनाते हैं सर्जिकल स्ट्राइक जैसा बड़ा ऐतिहासिक कदम उठाया। 28-29 सितंबर की रात पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में आतंकी लॉन्च पैड्स को सेना के जवानों ने तबाह कर दिया।

इन अधिकारियों को थी स्ट्राइक की जानकारी

इस प्लान की शुरुआत उरी हमले से हुई थी। भारत आतंकवाद पर कई बार पाकिस्तान को सबूत दे चुका था लेकिन पाकिस्तान ने हर बार आतंकवाद को सिर से खारिज किया। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय सेना द्वारा क्रॉस-एलओसी हमले की निगरानी की और इस पूरे प्लान को मंजूरी दी। इस प्लान की जानकारी, पीएम, एनएसए, रक्षामंत्री और टॉप आर्मी अधिकारियों के साथ स्पेशन कमांडोज को थी। जो उरी का बदला था।

पहली बार पीओके में घुसकर की थी कार्रवाई

पीओके में घुसकर सेना की कार्रवाई के बारे में कुछ ही चुनिंदा लोगों को जानकारी थी। भारत आतंकवादियों के पार जाने के लिए इंतजार करने के बजाय पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में घुसपैठ के हमला करना चाहता था।

सेना के सभी जवान लौटे थे सुरक्षित

29 सितंबर 2016 की रात भारतीय सेना ने उरी हमले का बदला लेते हुए नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार जाकर 7 आतंकवादी लॉन्च पैड पर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था। एक प्लान के तहत पीओके में भारतीय जवान 3 किलोमीटर अंदर घुसे और आतंकियों के ठिकानों को पूरी तरह से खत्म कर वापस लौटे आए। इस मिशन में किसी भी जवानों को कोई नुकसान नहीं हुआ था।

Next Story
hari bhoomi
Share it
Top