Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: सुप्रीम कोर्ट का आदेश, कोरोना का इलाज कर रहे डॉक्टर और हेल्थ वर्कर्स की सैलरी केंद्र सरकार राज्यों को दें

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि कोरोना इलाज में जुटे डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ की सैलरी राज्य सरकारों को दें।

राजस्थान राज्य बोर्ड की कक्षा 10वीं की परीक्षा को रद्द करने की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज
X
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

कोरोना संकट के बीच मरीजों की सेवा कर रहे मेडिकल स्टाफ और डॉक्टरों की सैलरी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की गई। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह इलाज में जुटे डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ की सैलरी राज्य सरकारों को दें। इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट ने सैलरी को लेकर सुनवाई की थी। जिसमें कोर्ट ने कहा था कि हमें खोलना योद्धाओं का सम्मान करना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को केंद्र से कहा कि वह राज्यों को कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर और हेल्थ वर्कर्स की सैलरी देने के निर्देश जारी करे। शीर्ष अदालत ने कहा कि केंद्र डॉक्टर्स की सैलरी के भुगतान पर चार हफ्ते के अंदर एक एक रिपोर्ट बनाए। उसने चेतावनी दी कि अगर ऐसा नहीं किया तो इसे गंभीरता से लिया जाएगा। कोर्ट ने यह भी कहा कि डॉक्टर और हेल्थकेयर वर्कर्स क्वारैंटाइन सेंटर में मरीजों के इलाज से इनकार नहीं कर सकते।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को डॉक्टर की सैलरी विवाद को लेकर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार ने कहा है कि वो राज्यों को कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की सैलरीे दे। कोर्ट ने साफ कहा कि केंद्र डॉक्टर की सैलरी कुछ 4 हफ्ते के अंदर दें और साथ ही उसकी रिपोर्ट भी दें।

वहीं दूसरी तरफ कोर्ट ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर इसे गंभीरता से लिया जाएग, तो इस मामले को गंभीरता से लिया जाएगा। साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे। डॉक्टर हेल्थ केयर सेंटर में मरीजों के इलाज से इंकार नहीं कर सकते हैं।

जानकारी के लिए बता दें कि देश में कोरोना मरीजों की संख्या 3,54,000 हो गई है। बीते 24 घंटे के अंदर देश में 11,000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। लगातार देश के अंदर हर दिन 10,000 से ऊपर मामले दर्ज किए जा रहे हैं। वही सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र, तमिलनाडु और राजधानी दिल्ली है।

Next Story