Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Subhash Chandra Bose Jayanti: क्या भारत की आजादी के पीछे थे सुभाष चंद्र बोस

Subhash Chandra Bose Jayanti: नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 23 जनवरी 2020 को 123वीं जयंती मनाई जाएगी।

Subhash Chandra Bose Jayanti: क्या भारत की आजादी के पीछे थे सुभाष चंद्र बोस

Subhash Chandra Bose Jayanti: नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 23 जनवरी 2020 को 123वीं जयंती मनाई जाएगी। भारत की आजामी के नायकों में उनका नाम सबसे ऊपर आता है। वैसे तो देश की आजादी में हर शख्स का अपना अपना महत्व रहा। इसमें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भी आते हैं।

महात्मा गांधी के साथ जुड़े नेताजी

अंग्रेजों के खिलाफ भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास की बात की जाए और उसमें सुभाष चंद्र बोस नाम एक प्रमुख व्यक्तियों में शामिल रहा। शुरुआत से ही सही बोस ने यह जानने के बावजूद कि भारत की आजादी की दिशा में अपना रास्ता तय किया। रुआत बोस से उन्हें नेताजी के नाम बुलाया गया। स्वतंत्रता के लिए भारतीय संघर्ष का हिस्सा बन गए, जब वे महात्मा गांधी के नेतृत्व में चल रहे सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल हो गए।

नौकरी छोड़ भारत की आजादी में शामिल हुए नेताजी

हालांकि, वो तत्कालीन भारतीय सिविल सेवा (आईसीएस) परीक्षाओं में सफल रहे। बोस ने देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी।आगे चलकर वो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए और उसके अध्यक्ष भी बने। 1938 और 1939 में उन्हें पार्टी अध्यक्ष के रूप में भी चुना गया। हालांकि, उन्होंने 1940 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया और फॉरवर्ड ब्लॉक का गठन किया।

भारत ही नहीं विदेशों में भी भारत की आजादी के लिए किया संघर्ष

अंग्रेजों ने उन्हें गिरफ्तार करने के कारण उन्हें उनके शासन का विरोध करने की सजा मिली। उन्होंने 1941 में गुप्त रूप से देश छोड़ दिया और पश्चिम की ओर से अफगानिस्तान से होते हुए यूरोप पहुंचे जहां उन्होंने रूसियों और जर्मनों से अंग्रेजों के खिलाफ उनके संघर्ष में सहायता मांगी। उन्होंने 1943 में जापान का दौरा किया, जहां शाही प्रशासन ने मदद के लिए उनकी अपील के लिए उनकी मदद के लिए हां कर दी थी। यहीं पर उन्होंने भारतीय युद्ध बंदियों के साथ भारतीय राष्ट्रीय सेना का गठन किया, जिन्होंने ब्रिटिश भारतीय सेना के साथ सेवा की थी। यह अक्टूबर 1943 में भी था कि उन्होंने एक अनंतिम सरकार बनाई थी, जिसे दूसरे विश्व युद्ध के दौरान एक्सिस पॉवर्स ने मान्यता दी थी।

बोस के नेतृत्व में आईएनए ने पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों पर हमला किया गया और कुछ हिस्सों पर कब्जा भी कर लिया गया। हालांकि, अंत में आईएनए को मौसम और जापानी नीतियों के कारण आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर होना पड़ा। बोस आत्मसमर्पण करने वाले नहीं थे। उन्होंने देश से बाहर जाने के बाद भी भारत की आजादी के लिए संघर्ष किया था।

एक दुर्घटना में हो गई थी नेताजी की मौत

ऐसा कहा जाता है कि उनका विमान फॉर्मोसा में दुर्घटनाग्रस्त हुआ था, जिसे अब ताइवान के नाम से जाना जाता है। उस समय जापान में फॉर्मोसा का शासन था। इतिहासकार करते हैं कि उन्हें थर्ड-डिग्री बर्न का सामना करना पड़ा और वह कोमा में चले गए और कभी भी इससे बाहर नहीं आए। 18 अगस्त 1945 को उनकी मृत्यु हो गई।

भारत के इतिहास में उस महत्वपूर्ण दौर में उग्र नेतृत्व की भावना को बनाए रखा और कई अन्य तरीके भी हैं जिनमें उन्होंने अपना खुद का बनाया, उनकी मातृभूमि के स्वतंत्रता संग्राम में अहम योगदान रहा। चाहे वह कितना भी अल्पकालिक क्यों ना हो, अपने कार्यों को रोकने और अपनी जमीन पर वापस जाने के ब्रिटिश निर्णय में योगदान दिया। इसने अंत में, भारत की स्वतंत्रता का मार्ग निकाल ही दिया। अंग्रेजों ने रोप में भगा दिए जाने के बाद बोस ने विभिन्न यूरोपीय देशों और भारत के बीच संपर्क स्थापित किए जो पहले मौजूद नहीं थे। उन्होंने ठोस आर्थिक नियोजन की वकालत की और खुद को रास्ता दिखाया। ऐसे में उनका योगदान भारत में रहते और जाने के बाद भी बना रहा।

Next Story
Top