Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अपने हेलीकॉप्टर को दुश्मन का समझकर मार गिराने के मामले में 5 अधिकारी दोषी करार

27 फरवरी को जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में भारतीय सेना के क्रैश हुए एमआई-17 हेलीकॉप्टर मामले में शुक्रवार को वायुसेना की विशेष कोर्ट ने 5 अधिकारियों को दोषी करार दिया है। हेलीकॉप्टर क्रैश की इस घटना में वायुसेना के 6 अधिकारियों की मौत हो गई थी।

अपने हेलीकॉप्टर को दुश्मन का समझकर मार गिराने के मामले में 5 अधिकारी दोषी करार
X

27 फरवरी को जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में भारतीय वायुसेना सेना (Indian Air Force) के क्रैश हुए एमआई-17 (MI-17) हेलीकॉप्टर मामले में शुक्रवार को वायुसेना की विशेष कोर्ट ने 5 अधिकारियों को दोषी करार दिया है। हेलीकॉप्टर क्रैश की इस घटना में वायुसेना के 6 अधिकारियों की मौत हो गई थी। यह हादसा स्पाइडर एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम द्वारा किए गए फ्रैंडली फायर के कारण हुई थी।

एमआई-17 हेलीकॉप्टर हादसे में एक ग्रुप कैप्टन, दो विंग कमांडर और दो फ्लाइट लेफ्टिनेंट सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले की जांच एयर कॉमोडोर रैंक के अधिकारी को सौंपी गई थी। वायुसेना की विशेष कोर्ट ने इस घटना के लिए पांच अधिकारियों को सही प्रक्रिया का पालन न करने और लापरवाही बरतने के लिए दोषी पाया है।

हादसे की जांच कर रहे अधिकारी ने बताया कि जब चॉपर वापस आ रहा था तो कंट्रोल रूम में बैठे अधिकारियों को लगा कि सामने मिसाइल आ रही है। इसके चलते ये हादसा हो गया। वायुसेना के शीर्ष अधिकारियों ने जिम्मेदार अधिकारियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की बात कही थी।

26 फरवरी को बालाकोट में भारतीय वायूसेना द्वारा एयर स्ट्राइक करने के बाद 27 फरवरी को पाकिस्तान ने जवाबी कार्रवाई करते हुए भारत के अन्दर हवाई हमले करने की कोशिश की। उसी दिन भारतीय वायुसेना एमआई-17 हेलीकॉप्टर श्रीनगर के बडगाम के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

गौरतलब है कि जब ये हादसा हुआ था तभी पाकिस्तान के फाइटर जेट भारतीय सीमा में हमला करने के उद्देश्य से घुस आए थे उसी समय भारत के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने पाकिस्तानी विमान एफ-16 को मार गिराया। पाकिस्तान के ही दूसरे विमान को आसमान में दौड़ाते हुए उसे पाकिस्तान में वापस खदेड़ दिया। इस दौरान अभिनंदन का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story