Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्पेशल स्टोरी: जानें आखिर क्यों पीएम मोदी के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का लद्दाख दौरा है अहम

भारत चीन सीमा विवाद के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज लद्दाख दौरा किया। इस दौरान भारतीय सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे और बिपिन रावत भी मौजूद रहे।

स्पेशल स्टोरी: जानें आखिर क्यों पीएम मोदी के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का लद्दाख दौरा है अहम
X

भारत चीन सीमा विवाद के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज लद्दाख दौरा किया। इस दौरान भारतीय सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे और बिपिन रावत भी मौजूद रहे। राजनाथ सिंह ने फॉरवर्ड पोस्ट चौकी पर हालात का जायजा लिया।

जवानों से की मुलाकात

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ईओडी बिपिन रावत और सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने फॉरवर्ड पोस्ट पर दौरा किया। वहीं इस दौरान गलवान घाटी में घायल हुए जवानों से मुलाकात की है।

पीएम मोदी भी कर चुके हैं दौरा

15 जून को गलवान घाटी में चीन से झड़प के दौरान 20 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद राजनाथ सिंह का यह पहला द्वारा बताया जा रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ स्थित पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी लेह और लद्दाख का दौरा किया था। इस दौरान राजनाथ सिंह ने लद्दाख में सैनिकों से मुलाकात की। सैन्य अभ्यास का जायजा लिया।

जानकारी के लिए बता दें कि राजनाथ सिंह ने एलएसी में सैन्य अभ्यास का जायजा लिया। राजनाथ का दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। पहले प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री चीन को सीमा से कड़ा संदेश दिया जा रहा है।

फॉरवर्ड पोस्ट पर राजनाथ सिंह ने हवा में की फायरिंग

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जायजा लेते हुए एक राइफल से फायरिंग की और जब उनके चेहरे पर खुशी दिखी। इसी दौरान और साफ फायरिंग की। जब राजनाथ सिंह ने राइफल से फायर किया तो इस दौरान सेना प्रमुख उनके पास खड़े रहे।

वहीं दूसरी तरफ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कैंप में जाकर जवानों से मुलाकात की और साथ ही कोरोना जैसी महामारी के बारे में जागरूक भी किया और हैंड सैनिटाइजर भी सैनिकों में बांटी। भारतीय सेना के पैरा ट्रूपर दस्ते ने भी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के सामने प्रदर्शन किया।

पीएम मोदी और राजनाथ सिंह के दौरे से बदले हालात

जानकारी के मुताबिक, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लद्दाख में बने एक सेना कैंप का दौरा किया। इस दौरान राजनाथ सिंह ने जवानों से बातचीत की। जहां उनके साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद रहे। चीन के साथ तनाव को कम करने के लिए बातचीत की जा रही है। अभी तक एलएसी पर भारत और चीन की सेना 2 किलोमीटर पीछे हट गए हैं।

Next Story