Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, बोलीं ईंधन की कीमतें बढ़ाकर जनता से जबरन वसूले 18 लाख करोड़

सोनिया गांधी ने आगे कहा कि सरकार की जिम्मेदारी ये है कि वो मुश्किल समय में देशवासियों का सहारा बने न कि उनकी मुसीबत का फायदा उठाकर मुनाफाखोरी करे। ईंधन की अन्यायपूर्ण बढ़ोतरी ने सरकार द्वारा देशवासियों से जबरन वसूली का एक नया उदाहरण पेश किया है। यह ना केवल अन्याय पूर्ण है बल्कि संवेदनहीन भी है।

सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार पर बोला हमला, कहा - देश में नफरत घोल रही है राज करने वाली शक्तियां
X
सोनिया गांधी

कांग्रेस पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर आज पूरे देश में प्रदर्शन कर रही है। इसी क्रम में कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों पर मोदी सरकार पर निशाना है। उन्होंने कहा है कि पेट्रोल-डीजल पर 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर मोदी सरकार ने 18 लाख करोड़ रुपये अतिरिक्त वसूले हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सोनिया गांधी ने कहा कि पिछले 3 महीनों में मोदी सरकार ने 22बार लगातार पेट्रोल- डीजल की कीमत में बढ़ोतरी की है। 2014 के बाद मोदी सरकार ने जनता को कच्चे तेल की गिरती कीमतों का फायदा देने की जगह पेट्रोल-डीजल पर 12बार एक्साइज़ ड्यूटी बढ़ाकर 18 लाख करोड़ रुपए की अतिरिक्त वसूली की है।

सोनिया गांधी ने आगे कहा कि सरकार की जिम्मेदारी ये है कि वो मुश्किल समय में देशवासियों का सहारा बने न कि उनकी मुसीबत का फायदा उठाकर मुनाफाखोरी करे। ईंधन की अन्यायपूर्ण बढ़ोतरी ने सरकार द्वारा देशवासियों से जबरन वसूली का एक नया उदाहरण पेश किया है। यह ना केवल अन्याय पूर्ण है बल्कि संवेदनहीन भी है।

मिली जानकारी के मुताबिक, सोनिया गांधी का कहना है कि मैं मोदी सरकार से यह मांग करती हूं कि कोरोना महामारी के संकट में पेट्रोल-डीजल की बढ़ाई गई कीमतें फौरन वापस ली जानी चाहिए। एक्साइज ड्यूटी को भी वापस लिया जाए।

बता दें कि आज दिल्ली और अन्य बड़े शहरों में पेट्रोल-डीजल की कीमतें 80 रुपये प्रति लीटर को भी पार कर गई हैं। लॉकडाउन के बाद मोदी सरकार ने 22 बार पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी की है।

Next Story