Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Smart India Hackathon 2020 : स्मार्ट इंडिया हैकथॉन अभियान को समझें, जानें क्यों की गई हैकाथॉन की शुरुआत

Smart India Hackathon 2020 : छात्रों की रचनात्मकता और तकनीकी विशेषज्ञता के प्रयोग द्वारा एक मॉडल को संस्थागत रूप देने के लिए शुरू किया गया हैकथॉन अभियान आज बड़ा रूप ले चुका है।

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन अभियान को समझें, जानें क्यों की गई हैकाथॉन की शुरुआतस्मार्ट इंडिया हैकथॉन अभियान (फाइल फोटो)

Smart India Hackathon 2020 : एक इवेंट के रुप में शुरु किया गया स्मार्ट इंडिया हैकथॉन अभियान आज एक अभियान का रुप ले चुका है। दिसंबर 2018 में शुरु की गई यह मुहिम आज एक बड़ा रुप ले चुकी है। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, अंतर संस्थागत समावेशी नवाचार केंद्र इसकी निगरानी करती है। तकनीकी संस्थानों के छात्र इसमे भाग लेते हैं। डिजिटल तरीके से समाधान ढूंढने के लिए देशभर के 26 शहरों में पहली बार स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन की शुरुआत हुई थी।

पीएम मोदी कई हैकाथॉन से जुडे कार्यक्रमों में हिस्सा ले चुके है। सूचना एवं प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए सुशासन को भारत में हर किसी तक पहुंचाने के लिए स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन की शुरुआत की गई थी। इसका उद्देश्य देश के प्रत्यक्ष लाभ के लिए लाखों छात्रों की रचनात्मकता और तकनीकी विशेषज्ञता के प्रयोग द्वारा एक मॉडल को संस्थागत रूप देना हैस्मार्ट इंडिया हैकाथॉन प्रशासन और जीवन की गुणवत्ता में सुधार समाधान के लिए जनसंसाधन जुटाता है और भारत की कठिन समस्याओं के अभिनव समाधान प्रदान करने के लिए नागरिकों को अवसर देता हैं। केंद्र सरकार के कई मंत्रालय इस योजना में भागीदार हैं।

वर्ल्ड इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूआईपीओ) के मुताबिक, भारत में प्रति 10 लाख की आबादी में 40 पेटेंट होता है। अब इसे बढ़ाने की जरुरत है । स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन के ज़रिए दुनिया के सबसे बड़े ओपन इनोवेशन मॉडल को सृजित करने की तैयारी है।

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन अभियान को समझें

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन एक अनोखा मॉडल है, जिसके द्वारा आम नागरिक जो रोजमर्रा के जीवन में परेशानी का सामना करते है, उन्हें इसके द्वारा कुछ समाधान मिलेंगें। स्मार्ट इंडिया हैकथॉन के अंदर 1 लाख से ज्यादा टेक्निकल स्टूडेंट्स, 3000 से ज्यादा टेक्निकल इंस्टिट्यूट और 200 से ज्यादा संस्था आती है। हैकथॉन दुनिया का सबसे बड़ा सॉफ्टवेर एवं हार्डवेअर है। स्मार्ट इंडिया हैकथॉन का तीसरा एडिशन स्टूडेंट को टेक्नोलॉजी से जोड़ता है, और किसी भी परेशानी को कैसे सही ढंग से हल कर सकते है, यह भी बताता है।

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन अभियान के मुख्य बातें

- यह कार्यक्रम केवल छात्रों के लिए खुला है। कॉलेज एक या एक से अधिक टीम बनाकर अपने कॉलेज का प्रतिनिधि इस इवेंट में कर सकता है। इसके अलावा, छात्र अपने स्वयं के समूह बना सकते हैं और भाग ले सकते हैं।

- 1 लाख से ज्यादा बच्चे जो किसी टेक्निकल कोर्स को पढ़ रहे है, वो इसमें अपने आईडिया के साथ रजिस्ट्रेशन कर सकते है।

-3000 तकनीकी संस्थान राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने के लिए अपने विचारों को भेज सकते है।

- छात्रों के विचारों का निजी संगठनों के विशेषज्ञों द्वारा निर्णय किया जाता है। 200 से अधिक प्राइवेट सेक्टर के एक्सपर्ट इन विचारों को जज करते हैं।

- हैकथॉन अभियान में भाग लेने वाले छात्र विशिष्ट क्षेत्र के विशेषज्ञों से सुझाव और मार्गदर्शन लेते हैं। यह मार्गदर्शन छात्रों की समस्याओं को दूर करने में सहायता करता है।

- यह इवेंट उम्मीदवारों के बीच तकनीकी विचारों को बढ़ाने के लिए बनाया गया है, और उन्हें अपने विचारों को प्रदर्शित करने के लिए एक मंच भी प्रदान करता है।

- इसके द्वारा स्टार्टअप शुरू करने वालों को मदद मिलेगी। नए और अलग तरह के विचार लोगों को आकर्षित करेंगे, जिससे वो स्टार्टअप शुरू करने में संगठन को मदद भी कर सकते है।

- इवेंट का मुख्य उद्देश्य नए और अभिनव समाधानों के लिए मार्ग प्रशस्त करना है। इन समाधानों के विकास और कार्यान्वयन से समाज के जीवन की गुणवत्ता में वृद्धि होगी।

Next Story
Top