Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

65 साल बाद दूसरा 'सूखा वर्ष', अल-नीनो के प्रभाव से मानसून में देरी- स्काईमेट की ताजा रिपोर्ट

देश के 42 फीसदी हिस्सा सूखाग्रस्त हो चुका है और यह पिछले साल की तुलना में 6 फीसदी ज्यादा है। सूखा के प्रकोपों के बारे में स्काईमेट के मौसम विज्ञानी समर चौधरी ने बताया कि पिछले 65 वर्षों में यह दूसरा सबसे सूखा वर्ष है।

65 साल बाद दूसरा सूखा वर्ष, अल-नीनो के प्रभाव से मानसून में देरी- स्काईमेट की ताजा रिपोर्ट
X

देश के 42 फीसदी हिस्सा सूखाग्रस्त होने के कगार पर है और यह पिछले साल की तुलना में 6 फीसदी ज्यादा है। सूखा के प्रकोपों के बारे में स्काईमेट के मौसम विज्ञानी समर चौधरी ने बताया कि पिछले 65 वर्षों में यह दूसरा सबसे सूखा वर्ष है, प्री-मॉनसून के लिए सामान्य वर्षा 131.5 मिमी है जबकि दर्ज की गई वर्षा 99 मिमी है। यह स्थिति उन क्षेत्रों पर प्रचलित अल नीनो के कारण है, जो आने वाले मानसून को प्रभावित करेंगे।

चौधरी ने कहा कि अगले 48 घंटों के भीतर केरल से शुरू हो रही मॉनसून में गिरावट आने की उम्मीद है। इस साल मानसून कमजोर रहेगा। दिल्ली और इसके आस-पास के क्षेत्रों के लिए मानसून की सामान्य तिथियां जून के अंतिम सप्ताह में हैं, लेकिन इसमें 10-15 दिन की देरी हो सकती है।

बता दें कि स्काईमेट और भारतीय मौसम विभाग ने देश में सूखा पड़ने की आशंका जता चुका है। दोनों के अधिकारियों ने कहा है कि अल-नीनो के प्रकोप से इस साल मानसून आने में देरी हो सकती है व कम वर्षा होने की भी उम्मीद जताई थी। मौसम विभाग ने यह भी कहा है कि मानसून आने के दो महीने बाद अल-नीनो का प्रभाव सामान्य हो जाएगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story