Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शुभेंदु के पिता शिशिर अधिकारी को DSDA के अध्यक्ष पद से हटाया गया, बोले- मुझे नहीं पड़ता कोई फर्क

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने का कहना है कि सांसद एजेंसी के अध्यक्ष के तौर पर शिशिर अधिकारी अपने दायित्वों को निर्वहन नहीं कर पा रहे थे। वह एक अनुभवी नेता हैं। शायद वह अस्वस्थ हैं।

Shubendus father Shishir Adhikari removed as DSDA chairman in west bengal   शुभेंदु के पिता शिशिर अधिकारी को DSDA के अध्यक्ष पद से हटाया गया, बोले- मुझे नहीं पड़ता कोई फर्क
X

शिशिर अधिकारी, फोटो फाइल

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) का साथ छोड़कर भाजपा का दामन थामने वाले शुभेंदु अधिकारी के पिता शिशिर अधिकारी को दीघा शंकरपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। शिशिर अधिकारी की जगह पर विधायक अखिल गिरि को नियुक्त किया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक, विधायक अखिल गिरि टीएमसी के विरोधी माने जाते हैं। इस बात की जानकारी एक आधिकारिक अधिसूचना में आई है।

खबरों से मिली जानकारी के अनुसार, विधायक अखिल गिरि ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि शिशिर अधिकारी ने डीएसडीए के अध्यक्ष के रूप में कुछ नहीं किया। यही कारण है कि उन्हें अध्यक्ष पद से हटाया गया है। मौजूदा समय में शिशिर अधिकारी पूर्वी मेदिनीपुर में टीएमसी के जिला अध्यक्ष हैं।

अपने दायित्वों को निर्वहन नहीं कर पा रहे थे

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने का कहना है कि सांसद एजेंसी के अध्यक्ष के तौर पर शिशिर अधिकारी अपने दायित्वों को निर्वहन नहीं कर पा रहे थे। वह एक अनुभवी नेता हैं। शायद वह अस्वस्थ हैं। प्रवक्ता कुणाल घोष ने आगे कहा कि हमें उस वक्त ही ज्यादा दुख पहुंचा था जब उन्होंने अपने बेटों शुभेंदु और सौमेंदु के खिलाफ कोई शब्द नहीं बोला, जो भाजपा में जाने के बाद लगातार टीएमसी पर हमला कर रहे हैं। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि जैसे ही शिशिर अधिकारी अपनी बीमारी से उबरेंगे, उन्हें डीएसडीए के अध्यक्ष पर फिर से नियुक्त कर दिया जाएगा।

शिशिर अधिकारी ने दी ये प्रतिक्रिया

रिपोर्ट के अनुसार, शिशिर अधिकारी ने अध्यक्ष पद से हटाये जाने के मामले में प्रतिक्रिया दी है। उनका कहना है कि वो जो चाहे कर सकते हैं। मुझे फर्क नहीं पड़ता। इस पर मामले पर शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि उन्हें सत्ता से हटाने वाले अगले विधानसभा चुनाव में सत्ता से बाहर हो जाएंगे।

Next Story