Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सरदार वल्लभ भाई पटेल पुण्यतिथि : किसने दी थी वल्लभ भाई पटेल को 'सरदार' और 'लौह पुरुष' की उपाधि

31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के खेड़ा जिले में एक किसान परिवार में जन्मे सरदार पटेल भारतीय बैरिस्टर और प्रसिद्ध राजनेता थे। भारत की आजादी के बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल पहले तीन वर्ष उप प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, सूचना मंत्री और राज्य मंत्री रहे थे।

सरदार वल्लभ भाई पटेल पुण्यतिथि : किसने दी थी वल्लभ भाई पटेल को
X
सरदार वल्लभ भाई पटेल पुण्यतिथि

भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं स्वतंत्र भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की रविवार यानी (15 दिसंबर) को 69वीं पुण्यतिथि है। 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के खेड़ा जिले में एक किसान परिवार में जन्मे सरदार पटेल भारतीय बैरिस्टर और प्रसिद्ध राजनेता थे। भारत की आजादी के बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल पहले तीन वर्ष उप प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, सूचना मंत्री और राज्य मंत्री रहे थे। उन्होंने देश के नक्शे को मौजूदा स्वरूप देने में अमूल्य योगदान दिया। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि 'लौह पुरुष' कहलाए जाने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल को ये उपाधि किसने दी थी और क्यों दी गई थी।

किसने दी थी वल्लभ भाई पटेल को 'सरदार' और 'लौह पुरुष' की उपाधि

1947 में देश की आजादी के बाद लगभग 500 साल से भी अधिक देसी रियासतों का एकीकरण एक सबसे बड़ी समस्या थी। सरदार वल्लभ भाई पटेल जब भारत के गृहमंत्री बने तब उन्हें भारतीय रियासतों के विलय की ज़िम्मेदारी उनको ही सौंपी गई थी। उन्होंने कुशल कूटनीति और जरूरत पड़ने पर सैन्य हस्तक्षेप के जरिए उन अधिकांश रियासतों को तिरंगे नीचे लानें में कामयाबी हासिल की थी।

यानी 600 छोटी बड़ी रियासतों का भारत में विलय कराया। देशी रियासतों का विलय आजाद भारत की पहली उपलब्धि थी। देशी रियासतों के विलय में सबसे अधिक योगदान पटेल का था। नीतिगत दृढ़ता के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने पटेल को 'सरदार' और 'लौह पुरुष' की उपाधि दी थी। इसके बाद से ही 'लौह पुरुष' के नाम से भी जाना जाने लगा।


सम्मान और पुरस्कार

* 'लौह पुरुष' सरदार वल्लभ भाई पटेल को साल 1991 में मरणोपरान्त 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया था।

* अहमदाबाद के एयरपोर्ट का नामकरण 'सरदार वल्लभ भाई पटेल अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट रखा गया है।

* गुजरात के वल्लभ विद्यानगर में 'सरदार पटेल विश्वविद्यालय' है।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी

31 अक्टूबर 2013 को सरदार वल्लभ भाई पटेल की 137वीं जयंती थी। उनकी 137वीं जयंती के अवसर पर गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य में नर्मदा जिले में सरदार पटेल के स्मारक का शिलान्यास किया था। जिसका नाम 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' रखा गया है। यानी 'एकता की मूर्ति'। इसका उद्घाटन पीएम मोदी ने 31 अक्टूबर 2018 को सरदार पटेल के जन्मदिवस के मौके पर किया गया था। 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' की ऊंचाई 182 मीटर (597 फीट) है। बता दें कि 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के खेड़ा जिले में जन्में वल्लभ भाई पटेल का निधन 15 दिसंबर 1950 को मुंबई के महाराष्ट्र में हुआ था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story