Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रॉबर्ट वाड्रा बोले- सरकार ज्वलंत मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिये कर रही उनका इस्तेमाल

प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा ने कहा कि केंद्र सरकार मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिये उनका इस्तेमाल करती है। रॉबर्ट वाड्रा ने बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग द्वार की जा रही पूछताछ पर यह बयान दिया है।

robot vadra targeted central government over income tax department inquiry
X

रॉबर्ट वाड्रा 

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद एवं प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा के दिल्ली स्थित घर पर मंगलवार को भी लगातार दूसरे दिन भी आयकर विभाग के अधिकारी पहुंचे हैं। इस मामले पर रॉबर्ट वाड्रा ने केंद्र सरकार के खिलाफ निशाना साधा है। रॉबर्ट वाड्रा ने कहा कि ये सब उनके साथ लगातार होता रहता है। वहीं उन्होंने कहा कि इसकी एक टाइमिंग है। जब भी देश में कोई मुद्दा उछल रहा होता है। उसी दौरान रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ की जाती है। रॉबर्ट वाड्रा ने कहा कि केंद्र सरकार यदि अपने खिलाफ उछल रहे मुद्दों पर से देश की जनता का ध्यान भटकाना चाहती है तो वो मुझे या किसी और अन्य मुद्दे का इस्तेमाल करेगी।

रॉबर्ट वाड्रा ने आयकर विभाग के अधिकारियों द्वारा पूछताछ करने पर कहा कि उनके द्वारा अधिकारियों को सभी दस्तावेज दिए हैं। उनके पास शुरू से लेकर अब तक उसके संबंध में जो भी सब कुछ है। वहीं रॉबर्ट वाड्रा ने कहा कि आयकर विभाग के जो भी प्रश्न हैं, उनका जवाब देने के लिए वो तैयार हैं।

आपको बता दें, रॉबर्ट वाड्रा के दिल्ली स्थित घर पर आज को भी लगातार दूसरे दिन भी आयकर विभाग के अधिकारी पहुंचे। जहां रॉबर्ट वाड्रा से बेनामी संपत्ति से सबंधित मामले में लगातार दूसरे दिन पूछताछ हो रही है। इससे पहले सोमवार को भी रॉबर्ट वाड्रा के बयान आयकर विभाग की टीम द्वारा रिकॉर्ड किए गए थे। वैसे अभी तक यह जानकारी निकल कर सामने नहीं आई है कि आयकर विभाग अधिकारियों द्वारा रॉबर्ट वाड्रा क्या पूछताछ की गई है।

इससे पहले कई माह पूर्व रॉबर्ट वाड्रा को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) कार्यालय भी बुलाया गया था। उसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्ली हाईकोर्ट में यह तक कह दिया था कि बेनामी संपत्ति से संबंधित मामले में हिरासत में लेकर रॉबर्ट वाड्रा से पूछताछ किये जाने की जरूरत है। प्रवर्तन निदेशालय की ओर से कोर्ट में दलील दी गई थी कि रॉबर्ट वाड्रा 'धन के लेन-देन की कड़ियों से कथित रूप से सीधे जुड़े रहे हैं। से ये भी आरोप लगाया गया था कि रॉबर्ट वाड्रा खुद के खिलाफ दर्ज बेनामी संपत्ति मामले की जांच में एजेंसी का सहयोग नहीं कर रहे हैं।

इन दावों को रॉवट वाड्रा के वकील की ओर से नकारा गया था। वकील ने कहा था कि जब भी उनके मुवक्किल को जांच एजेंसी द्वारा बुलाया जायेगा, वो जांच एजेंसी के सामने उपस्थित होंगे। उनके वकील की ओर से यह दावा भी किया गया कि प्रवर्तन निदेशालय की तरफ से जो सवाल पूछे गये, उनके मुवक्किल रॉबर्ट वाड्रा ने जवाब दिया है। वकील ने कहा कि रॉवट वाड्रा द्वारा स्वयं पर लगाये गये आरोपों को स्वीकार नहीं किये जाने का ये मतलब नहीं है कि उनके द्वारा इस मामले की जांच के संबंध में सहयोग नहीं किया जा रहा है। याद रहे, रॉवट वाड्रा को बेनामी संपत्ति मामले में निचली अदालत की ओर से अग्रिम जमानत दे दी गई थी। जिसको प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। रॉवट वाड्रा के खिलाफ लंदन के 12, ब्रायनस्टन स्क्वायर में 17 करोड़ रुपये की सम्पत्ति की खरीदारी में धनशोधन के मामले का आरोप है।

Next Story