Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Rajya Sabha Election: जानें कैसे चुने जाते हैं राज्यसभा सांसद, यहां पढ़ें पूरी चुनावी प्रक्रिया से जुड़ी जानकारी

राज्यसभा (Rajyasabha) जहां अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव होता है, जनता इसमें हिस्सा नहीं लेती है। राज्यसभा को प्रथम सदन या उच्च सदन कहा जाता है। जबकि लोकसभा को निचला सदन कहा जाता है।

Rajya Sabha Election: जानें कैसे चुने जाते हैं राज्यसभा सांसद, यहां पढ़ें पूरी चुनावी प्रक्रिया से जुड़ी जानकारी
X

राज्यसभा सदन (फाइल फोटो)

भारत (India) में चुनाव (Election) अलग अलग स्तर पर होते हैं। देश को चलाने के लिए संसद (Parliament) है। संसद के दो सदन हैं एक लोकसभा (Loksabha), जहां जनता सीधे चुनकर प्रतिनिधि को सदन में भेजती है और दूसरा है राज्यसभा (Rajyasabha), जहां अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव होता है, जनता इसमें हिस्सा नहीं लेती है। राज्यसभा को प्रथम सदन या उच्च सदन कहा जाता है। जबकि लोकसभा को निचला सदन कहा जाता है।

राज्यसभा से जुड़ी नॉलेज...

राज्यसभा चुनाव में विधायकों का वोट महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि राज्यसभा सांसदों का चुनाव राज्यों के विधायकों को ही करना होता है। राज्यसभा चुनाव कैसे होते हैं और इसमें किसे वोट दिया जाता है। यहां हम जानेंगे कि राज्यसभा चुनाव की पूरी प्रक्रिया क्या है। ब्रिटेन के 'हाउस ऑफ लॉर्ड्स' की तर्ज पर काम करते हुए राज्यसभा भारतीय संसद का ऐसा सदन हो जो कभी भंग नहीं होता है। राज्यसभा में 245 सदस्य होते हैं, जिनमें से 12 राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत होते हैं, जबकि 233 सदस्यों द्वारा चुने जाते हैं। 6 साल का कार्यकाल होता है। हर दो साल में एक तिहाई सीटों के लिए वोटिंग होती है। देश के उपराष्ट्रपति राज्यसभा के सभापति होते हैं। सभी राज्यसभा सांसदों का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से होता है।

राज्यसभा का चुनाव अप्रत्यक्ष होता है

लोकसभा या विधानसभा चुनावों के विपरीत राज्यसभा चुनाव अप्रत्यक्ष होता है। इसका मतलब है कि जनता राज्यसभा सांसदों को सीधे वोट देकर नहीं बल्कि उनके द्वारा चुने गए विधायकों को वोट देकर चुनती है। इस तरह राज्यसभा सांसदों के चुनाव में जनता की अप्रत्यक्ष भागीदारी होती है। प्रत्येक राज्य में राज्यसभा की कितनी सीटें होंगी, यह उसकी जनसंख्या को देखकर किया जाता है और इन सीटों से भी फर्क पड़ता है कि राज्य छोटा है या बड़ा।

ऐसे होती है राज्यसभा के लिए वोटिंग

राज्यसभा चुनाव में विधायक हर सीट के लिए अलग-अलग वोट नहीं डाल सकते। क्योंकि अगर ऐसा होता है, तो हर सीट पर सत्ताधारी दल का कब्जा हो जाएगा।

दरअसल, मतदान के समय हर विधायक को एक सूची दी जाती है। जिसमें उन्हें राज्यसभा उम्मीदवारों के लिए अपनी पहली पसंद, दूसरी पसंद, तीसरी पसंद को लिखना होता है।

राज्यसभा की कितनी सीटें हैं?

सदस्यता 250 सदस्यों तक सीमित है और वर्तमान राज्यसभा में 245 सदस्य हैं। 233 सदस्य विधानसभा के सदस्यों द्वारा चुने जाते हैं और 12 को राष्ट्रपति के द्वारा मनोनित किया जाता है। जो कला, साहित्य, ज्ञान और सेवाओं में अपना अहम योगदान देते हैं।

राज्यसभा चुनाव की अधिसूचना कौन जारी करता है?

इस चुनाव के लिए सबसे पहले चुनाव आयोग नोटिफिकेशन जारी करता है। अधिसूचना जारी होने के बाद पूरी चुनाव प्रक्रिया में तीन भाग होते हैं नामांकन, चुनाव और मतों की गिनती। चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए सात दिन का समय दिया गया है और उसके बाद एक तारीख पर मतदान होता है और उसके बाद ही रिजल्ट जारी किया जाता है।

राज्यसभा की सदस्यता के लिए न्यूनतम आयु क्या है?

राज्यसभा चुनाव के लिए सदस्य की कम से कम आयु 30 वर्ष होनी चाहिए। भारत का नागरिक होना चाहिए। कोई घोषित अपराधी न हो। भारत सरकार के अधीन लाभ के किसी अन्य पद पर न हो। अस्वस्थ न हो।

और पढ़ें
Next Story