Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राहुल गांधी ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे, कहा- मोदी सरकार को नए कृषि क़ानूनों को वापस लेना पड़ेगा, हिरासत में लिए गए सुरजेवाला और श्रीनिवास

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आगे कहा कि हम इन कानूनों का विरोध करते हैं। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि सरकार इन कानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर हो।

राहुल गांधी ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे, कहा- मोदी सरकार को नए कृषि क़ानूनों को वापस लेना पड़ेगा, हिरासत में लिए गए सुरजेवाला और श्रीनिवास
X

केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के खिलाफ और किसानों के समर्थन में कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे हैं। राहुल गांधी जिस ट्रैक्टर से सांसद पहुंचे हैं उस पर एक बैनर लगा हुआ है। बैनर पर लिखा है किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानून वापस लो वापस लो। इस बीच राहुल गांधी ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि केंद्र सरकार को नए कृषि क़ानूनों को वापस लेना पड़ेगा। ये क़ानून 2-3 बड़े उद्योगपतियों के लिए हैं। ये किसानों के फायदे के लिए नहीं हैं। ये काले क़ानून हैं। मैं किसानों के संदेश को पार्लियामेंट तक लेकर आया हूं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आगे कहा कि हम इन कानूनों का विरोध करते हैं। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि सरकार इन कानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर हो। हम किसानों के साथ खड़े हैं, हम उनकी मदद करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि भाजपा सरकार इन कानूनों को वापस ले। मैं सभी किसानों को बताना चाहता हूं कि पूरा देश आपके साथ खड़ा है। जय जवान जय किसान।

राहुल गांधी के साथ ट्रैक्टर पर रणदीप सिंह सुरजेवाला, बीवी श्रीनिवास और दीपेंद्र हुड्डा समेत अन्य कई कांग्रेसी नेता नजर आए। इस दौरान सुरजेवाला और श्रीनिवास को हिरासत में ले लिया गया है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि केंद्र की सरकार के द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की ओर से दिल्ली के जंतर-मंतर पर किसान संसद लगाई जा रही है। लगभग 200 किसान प्रतिदिन जंतर-मंतर पर संसद करेंगे, जोकि संसद के मानसून सत्र तक जारी रहेगी।

गौरतलब है कि साल 2020 से किसानों का आंदोलन दिल्ली के टिकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर जारी है। किसान लगातार कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं। वहीं सरकार का कहना है कि कानून वापस नहीं होंगे। अगर कोई बदलाव करना है, तो सरकार बातचीत के लिए तैयार है। मानसून सत्र में कृषि कानून और पेगासस जासूसी विवाद से जुड़े हंगामे के कारण संसद के दोनों सदन में कामकाज नहीं हो पा रहा है।


Next Story