Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राहुल गांधी ने की महबूबा मुफ्ती की रिहाई की मांग, लोकतंत्र को लेकर दिया बड़ा बयान

राहुल गांधी से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने महबूबा मुफ्ती की नजरबंदी बढ़ाने का विरोध किया था। पी चिदंबरम ने बीते शनिवार को कहा कि सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत महबूबा मुफ्ती की नजरबंदी बढ़ाना कानून का उल्लंघन ही नहीं है बल्कि नागरिकों को मिले संवैधानिक अधिकारों पर भी हमला है।

राहुल गांधी ने की महबूबा मुफ्ती की रिहाई की मांग, लोकतंत्र को लेकर दिया बड़ा बयान
X
राहुल गांधी फ़ोटो फ़ाइल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी केंद्र सरकार को कोरोना वायरस महामारी और भारत-चीन के बीच जारी तनाव को लेकर आड़े हाथ लेते रहते हैं। अब रविवार यानी आज राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता महबूबा मुफ्ती की रिहाई की मांग की है।

राहुल गांधी ने आज अपने ट्विटर एकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि भारत का लोकतंत्र उस समय क्षतिग्रस्त हो गया जब केंद्र की मोदी सरकार ने गैरकानूनी रूप से राजनीतिक नेताओं को बंदी बनाया। यह सही समय है, महबूबा मुफ्ती को रिहा किया जाए।


जानकारी के लिए आपको बता दें कि राहुल गांधी से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने महबूबा मुफ्ती की नजरबंदी बढ़ाने का विरोध किया था। पी चिदंबरम ने बीते शनिवार को कहा कि सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत महबूबा मुफ्ती की नजरबंदी बढ़ाना कानून का उल्लंघन ही नहीं है बल्कि नागरिकों को मिले संवैधानिक अधिकारों पर भी हमला है।

कांग्रेस नेता ने पूछा कि 61 साल की पूर्व मुख्यमंत्री सार्वजनिक सुरक्षा के लिए कैसे खतरा हो सकती हैं?

Next Story
Top