Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मन की बात पर राहुल गांधी ने साधा निशाना, कहा उम्मीदवारों के साथ खेल गए पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के युवाओं को संबोधित करते हुए आज मन की बात की। जहां मोदी ने खिलौने से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा की। इसी बात को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए मोदी पर तंज कसा है।

मन की बात पर राहुल गांधी ने साधा निशाना, कहा उम्मीदवारों के साथ खेल गए पीएम मोदी
X
मन की बात पर राहुल गांधी ने साधा निशाना

पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के युवाओं को संबोधित करते हुए आज मन की बात की। जहां मोदी ने खिलौने से जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा की। हालांकि और भी कई मुद्दों पर चर्चा हुई। लेकिन विपक्ष पार्टी खिलौनों की चर्चा को लेकर पीएम मोदी पर घेरा है।

इसी बात को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए मोदी पर तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि JEE-NEET के उम्मीदवार को उम्मीद थी कि मोदी सरकार मन की बात में JEE-NEET को लेकर चर्चा करेंगे।

लेकिन पीएम खिलौनों पर चर्चा करके चले गए। जानकारी के लिए आपको बता दें कि JEE-NEET के परीक्षा की घोषणा के बाद से विपक्ष पार्टी लगातार सत्ताधारी केंद्र सरकार पर हावी हो रहे हैं। हालांकि इस विरोध में JEE-NEET के उम्मीदवार भी शामिल है।

इस विरोध के बीच मोदी ने मन की बात की। जिसमें JEE-NEET के उम्मीदवार पीएम से 'परीक्षा पर चर्चा' चर्चा चाहते थे, लेकिन पीएम ने 'खिलौने पर चर्चा' की।

मोदी ने बच्चों के माता-पिता से मांगी माफी

दरअसल, आज की मन की बात कार्यक्रम में मोदी ने खिलौने को लेकर काफी देर चर्चा की। मोदी ने कहा कि मन की बात को सुनने वाले बच्चों के माता-पिता से मैं क्षमा मांगता हूं, क्योंकि खिलौने पर चर्चा करने के बाद हो सकता है आपके बच्चे नई-नई डिमांड करना शुरू कर दें।

खिलौने गतिविधि को बढ़ाने के साथ-साथ हमारी आकांक्षाओं को भी एक नई उड़ान देता है। खिलौने न केवल मनोरंजन करते हैं, खिलौने दिमाग भी बनाते हैं और मकसद भी बनाते हैं। हमारे देश में स्थानीय खिलौनों की बहुत समृद्ध परंपरा है।

खिलौने की हिस्सेदारी को बढ़ाने के लिए वोकल बनना जरूरी

देश में कई प्रतिभाशाली और कुशल कारीगर हैं, जो अच्छे खिलौने बनाने में महारत हासिल किए हुए हैं। भारत के कुछ क्षेत्र खिलौना क्लस्टर के रूप में भी विकसित हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि वैश्विक खिलौना उद्योग 7 लाख करोड़ से अधिक की है।

जितना बड़ा व्यापार है, उसके हिसाब से इसमें भारत का हिस्सा बहुत कम है। इतनी बड़ी विरासत, परंपरा वाले देश को खिलौना बाजार में अपनी हिस्सेदारी क्या इतनी कम रखनी चाहिए। खिलौने की हिस्सेदारी को बढ़ाने के लिए हमें वोकल बनना होगा।

Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story