Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जल्द खत्म होगी पंजाब कांग्रेस की कलह, सिद्धू को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी

पंजाब (Punjab) की कांग्रेस पार्टी में कुछ समय से बसकुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। लेकिन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh) की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में जारी कलह अब खत्म हो जाएगी।

जल्द खत्म होगी पंजाब कांग्रेस की कलह, सिद्धू को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी
X

जल्द खत्म होगी पंजाब कांग्रेस की कलह।

पंजाब (Punjab) की कांग्रेस पार्टी में कुछ समय से बसकुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। लेकिन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh) की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में जारी कलह अब खत्म हो जाएगी। पार्टी आलाकमान की तरफ से जल्द पंजाब को लेकर बड़ा फैसला किया जाएगा और नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। अगले साल होने वाले पंजाब विधानसभा के चुनाव को देखते हुए कैबिनेट में फेरबदल करके विरोधी लहर को खत्म करने की तैयारी की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरुवार को पार्टी विधायकों के साथ चंडीगढ़ में लंच पर बैठक बुलाई यह बैठक करीब चार घंटे लंबी चली। लंच पर बैठक के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाब के शहरी क्षेत्रों के सीनियर कांग्रेस सहयोगियों के साथ सकारात्मक चर्चा रही। हमने जमीनी स्तर पर पार्टी को मजबूत करने के लिए उनके फीडबैक लिए हैं।

आपको बता दें कि एक दिन पहले ही नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ लंबी मुलाकात की थी। माना जा रहा है कि इन बैठकों में कांग्रेस आलाकमान की ओर से सिद्धू को पार्टी या संगठन में सम्मानजनक स्थान की पेशकश के साथ मनाने का प्रयास किया गया। सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के खिलाफ सिद्धू के सख्त रुख को देखते हुए कांग्रेस आलाकमान दोनों नेताओं के लिहाज से संतोषजनक समाधान निकालने का प्रयास कर रहा है।

बता दें कि हाल के कुछ हफ्तों से सिद्धू और पंजाब कांग्रेस के कुछ अन्य नेताओं ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। सिद्धू का कहना है कि गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए कारगर कदम भी नहीं उठाए गए। इस तरह के मुद्दों को लेकर सिद्धू राहुल गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे थे। माना जा रहा है कि प्रियंका गांधी वाड्रा से मिलने के बाद सिद्धू खुश जरूर नजर आए। अब देखना यह है कि आगे क्या होता है।

और पढ़ें
Next Story