Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पुडुचेरी में कांग्रेस की सरकार गिरी, बहुमत न साबित करने पर नारायणसामी ने दिया इस्तीफा, बोले- ये लोकतंत्र की हत्या है

पुडुचेरी विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के दौरान कांग्रेस और डीएमके के विधायकों ने वॉक आउट किया। इसके बाद स्पीकर ने ऐलान किया कि सरकार सदन में बहुमत साबित कर पाने में विफल रही। बताया जा रहा है कि अब वी नारायणसामी उपराज्यपाल से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंपेंगे।

Puducherry: पुडुचेरी में कांग्रेस की सरकार गिरी, वी नारायणसामी फ्लोर टेस्ट में हुए फेल
X

 पुडुचेरी में कांग्रेस की सरकार गिरी

पुडुचेरी में कांग्रेस की गठबंधन वाली सरकार गिर गई है। क्योंकि वी नारायणसामी (V Narayanasamy) फ्लोर टेस्ट (Floor Test) साबित करने में असफल रहे। पुडुचेरी विधानसभा (Puducherry Assembly) में फ्लोर टेस्ट के दौरान कांग्रेस (Congress) और डीएमके के विधायकों ने वॉक आउट किया। इसके बाद स्पीकर (Speaker) ने ऐलान किया कि सरकार सदन में बहुमत साबित कर पाने में विफल रही। विधानसभा मे नारायणसामी बहुमत साबित करने में फेल रहे जिसके बाद वे उपराज्यपाल से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंप दिया है।

Update...

वी.नारायणसामी ने कही ये बात

3 नामित सदस्यों को विश्वास प्रस्ताव में कहीं भी मतदान का अधिकार नहीं है, मेरी स्पीच खत्म होने के बाद सरकार के व्हिप ने इस मुद्दे को उठाया लेकिन अध्यक्ष इससे सहमत नहीं हुए। ये लोकतंत्र की हत्या है, ऐसा देश में कहीं नहीं होता। पुडुचेरी के लोग इन्हें सबक सिखाएंगे।

इससे पहले, विधानसभा में बोलते हुए मुख्यमंत्री नारायणसामी ने पूर्व उपराज्यपाल किरण बेदी और केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों ने मिलकर सरकार को गिराने की कोशिश की। ज्ञात हो कि पिछले कई दिनों में कांग्रेस की गठबंधन सरकार के छह विधायक अपने पद से इस्तीफा दे चुके थे। वहीं, पिछले साल कांग्रेस के एक विधायक को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया था। इस तरह सरकार से सात विधायक दूर हो चुके थे, जिसके बाद सरकार अल्पमत में आ गई थी।

ऐसा लग रहा है कि पुडुचेरी में खड़ा हुआ राजनीतिक संकट दो राष्ट्रीय पार्टियों के बीच लड़ाई का नतीजा है। मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने 18 फरवरी को आरोप लगाया था कि भारतीय जनता पार्टी लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है। वहीं, इस मसले पर राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि कांग्रेस इस संकट को एक भावनात्मक मुद्दे में बदल सकती है। राजनीतिक टिप्पणीकार रवींद्रन दुरीसामी ने कहा कि यह स्पष्ट है कि नारायणसामी विश्वास मत जीतने में सक्षम नहीं होंगे, इसलिए वे अपनी उपलब्धियों और आगामी चुनाव की बातों को उजागर करने के लिए फ्लोर टेस्ट का उपयोग कर सकते हैं।

Next Story