Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू, राज्यपाल की सिफारिश को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की ओर से गृह मंत्रालय को राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करते हुए कहा गया था कि महाराष्ट्र में संविधान के मुताबिक सरकार गठन मुश्किल है।

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू, राज्यपाल की सिफारिश को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरीरामनाथ कोविंद

महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा की गई राष्ट्रपति शासन की सिफारिश को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी मिल गई है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई थी। राज्यपाल ने भगत सिंह कोश्यारी ने महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी, शिवसेना और एनसीपी को सरकार बनाने का मौका दिया था।

रिपोर्ट्स के मुताबिक राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की ओर से गृह मंत्रालय को राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करते हुए कहा गया था कि महाराष्ट्र में संविधान के मुताबिक सरकार गठन मुश्किल है। राज्यपाल ने अनुच्छेद 356 का इस्तेमाल करते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा की।

8:30 बजे हो रहा है समय समाप्त

बता दें कि रविवार से सोमवार तक शिवसेना के सरकार न बना पाने के बाद सोमवार शाम को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने तीसरे सबसे बड़े दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को मौका दिया था। एनसीपी को मिला समय आज देर शाम 8:30 बजे समाप्त हो रहा है। लेकिन अभी एनसीपी की तरफ से कोई आधिकारिक तौर पर सरकार बनाने को लेकर कोई दावा नहीं किया गया है।

राष्ट्रपति शासन किन परिस्थितियों में लगाया जाता है

* राष्ट्रपति शासन तब ही लगाया जा सकता जब चुनाव के बाद किसी पार्टी को बहुमत न मिला हो।

* यदि जिस पार्टी को बहुमत मिला हो वह सरकार बनाने से मना कर दे और राज्यपाल को दूसरा कोई ऐसा दल नहीं मिले जो सरकार बनाने की स्थिति में हो तो राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

* राज्य सरकार विधानसभा में हार के बाद इस्तीफा दे। वहीं दूसरे दल सरकार बनाने की स्थिति में नहीं हो तो राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

* राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के संवैधानिक निर्देशों का पालन ना किया हो।

* यदि कोई राज्य सरकार जान-बूझकर आंतरिक अशांति को बढ़ावा देती है तो राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

* राज्य सरकार अपने संवैधानिक दायित्यों का निर्वाह नहीं कर रही हो तो राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

Next Story
Share it
Top