Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जापान में 6 दशक के सबसे बड़े तूफान 'हेजिबीस' का कहर, समुद्र की उठती लहरों से सहमें 73 लाख जापानी

जापान के मौसम विभाग ने तूफान व भारी बारिश को लेकर 15 दिन पहले ही चेतावनी जारी कर दी थी जिसके बाद देश की सरकार ने तूफान से बचने के लिए युद्धस्तर पर तैयारियां शुरू कर दी थी। प्रशासन ने प्रभावित स्थानों को चिन्हित करके वहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा।

powerful typhoon Hagibis in Japan 73 lakh people were sent to safe placespowerful typhoon Hagibis in Japan 73 lakh people were sent to safe places

जापान (Japan) इस समय भीषण तूफान हेजिबीस (Hagibis) का सामना कर रहा है। शनिवार को तूफान के दस्तक देने के साथ ही देश में अफरातफरी मच गई। करीब 73 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। तूफान को लेकर हुई व्यापक तैयारियों के बावजूद शनिवार को देश का एक नागरिक इस हेजिबीस तूफान का शिकार हो गया। स्थानीय मीडिया के मुताबिक जापान में ये पिछले 6 दशक का सबसे खतरनाक तूफान है।

जापान के मौसम विभाग (Japan weather department) ने तूफान व भारी बारिश को लेकर 15 दिन पहले ही चेतावनी जारी कर दी थी जिसके बाद देश की सरकार ने तूफान से बचने के लिए युद्धस्तर पर तैयारियां शुरू कर दी थी। प्रशासन ने प्रभावित स्थानों को चिन्हित करके वहां के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा। साथ ही नदी के पास रहने वाले लोगों को घर के दूसरे मंजिल पर ही रहने की सलाह दी गई है।

हेजिबीस तूफान के पहले समंदर में 5.3 तीव्रता की गति का तूफान भी आया था, फिलहाल इससे किसी तरह का कोई भी नुकसान नहीं हुआ। नुकसान न होने के पीछे भूकंप के केंद्र का समुंद्र के काफी नीचे होना बताया जा रहा है। मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों में फिर से भूकंप आने की संभावना जताई है। साथ ही समुद्र में किसी को न जाने की हिदायत दी गई है।

कैसे पड़ा हेजिबीस नाम

Hagibis का तागालोग भाषा में अर्थ होता है गति यानी रफ्तार, इसलिए इस तूफान का नाम हेजिबीस रख दिया गया। हेजिबीस शनिवार को होंशु द्वीप के शुरू हुआ। इसके बाद टोक्यो के इजू की तरफ मुड़ गया। मुड़ने की वजह से इसकी गति में कमी आई पर लेकिन अभी भी ये तूफान 216 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहा है और ये रफ्तार अपने सामने पड़ने वाले किसी भी चीज को नेस्तनाबूत कर सकता है।

जपान के मौसम विभाग की चेतावनी के बावजूद तमाम लोग कार लेकर समुद्र के किनारे पहुंच गए जहां तूफान ने उन्हें अपनी जद में ले लिया, वहां तैनात सुरक्षाकर्मियों ने किसी तरह से उनकी जान बचाई। समुद्र की उठती उंची लहरों के बीच तमाम कारें तैरती हुई दिखाई दी। शनिवार को जिस एक इंसान की मौत तूफान की वजह से हुई वह कार से ही समुद्र के किनारे पहुंचा था जहां कार पलट गई और वह उसके नीचे दब गया।

जापान की मीडिया के मुताबिक ये तूफान पिछले 60 सालों में सबसे भयंकर तूफान है। पिछली बार 1958 में आए तूफान की वजह से करीब 1200 लोगों की मौत हुई थी। वहां की टीवी में चल रहे फुटेज में लोगों के बर्तन, जूते-चप्पल हवा में उड़ते दिखाई दे रहे हैं। बुलेट ट्रेन के साथ तमाम ट्रेनों को भी रद्द कर दिया गया है। तूफान से बचाव के लिए करीब 17 हजार जवानों को तैनात किया गया है।

Next Story
Share it
Top