Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देशवासियों की सुरक्षा और सहयोग के लिए पावरग्रिड है मुस्तैद

पावरग्रिड एक ऐसा संगठन है जो मानवीय भावनाओं और संवेदनाओं का सम्मान करता है, हर त्रासदी और आपात परिस्थितियों में देशवासियों की सेवा व सहायता के लिए तत्पर रहता है और जिसे भारत सरकार ने विद्युत् क्षेत्र में आपदा प्रबंधन के लिए नोडल एजेंसी नियुक्त किया है।

देशवासियों की सुरक्षा और सहयोग के लिए पावरग्रिड है मुस्तैद
X
पावर ग्रिड कार्यालय

पावरग्रिड एक महारत्न, देश की केंद्रीय पारेषण उपयोगिता, 20 देशों में मौज़ूद विश्व की विशालतम और सर्वश्रेष्ठ प्रबंधित पारेषण कंपनी, विश्व प्रसिद्ध प्लैट्स पत्रिका द्वारा फास्टेस्ट ग्रोइंग इलेक्ट्रिक पावर कंपनी इन एशिया के रूप में लगातार छह वर्षों से नवाज़ी जा रही भारतीय विद्युत् क्षेत्र की एकमात्र कंपनी है।

अगर आप की नज़रों में पावर ग्रिड की पहचान केवल इतनी है तो आप गलत हो सकते हैं। इन विशेषताओं के साथ ही पावरग्रिड है - एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट सिटीजन, एक सार्वजनिक उद्यम जो हर समय राष्ट्र सृजन के कार्य में संलग्न रहता है। पावरग्रिड एक ऐसा संगठन है जो मानवीय भावनाओं और संवेदनाओं का सम्मान करता है, हर त्रासदी और आपात परिस्थितियों में देशवासियों की सेवा व सहायता के लिए तत्पर रहता है और जिसे भारत सरकार ने विद्युत् क्षेत्र में आपदा प्रबंधन के लिए नोडल एजेंसी नियुक्त किया है। जब कभी भी कोई आपदा आई है पावरग्रिड सरकार के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर राहत व बचाव कार्य में हमेशा मुस्तैद रहा है। तो आज जब न केवल भारत बल्कि पूरा विश्व इस कोरोना महामारी के अप्रत्याशित संकट जूझ रहा है तो पावरग्रिड कैसे पीछे रह सकता है.... पावरग्रिड डटा है अपने दृढ निश्चय के साथ देशवासियों को राहत पहुँचाने में।

बीते वर्ष दिसम्बर माह में चीन के वुहान प्रान्त से शुरू हुआ यह कोरोना संक्रमण आज एक विश्वव्यापी महामारी का रूप ले चुका है। आर्थिक और तकनीकी रूप से समृद्ध विकसित देश भी इसके सामने पंगु नज़र आ रहे हैं। इस परिस्थिति में अपने देश के दूरदर्शी प्रधानमंत्री ने भारत को इस महामारी के संक्रमण से होने वाले विनाश से बचाने के लिए एक सूझ-बूझ भरा निर्णय लेते हुए देश में लॉक डाउन की घोषणा कर दी। पर इस फैसले से सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है देश की वो बहुसंख्य आबादी जिनके आय के स्रोत बहुत सीमित हैं, जो अपना पेट भरने के लिए अपनी दैनिक आमदनी पर निर्भर हैं, वैसे प्रवासी मज़दूर जो घर-बार से दूर अपनी आजीविका कमाने को आये हुए हैं और वैसे सभी लोग जो लॉक डाउन की वजह से भोजन की कमी का सामना कर रहे हैं। इनको राहत पहुँचाने के लिए पावरग्रिड ने पहले कदम के रूप में पीएम केयर फण्ड में 200 करोड़ रुपये का योगदान किया और कंपनी के सभी कार्मिकों ने भी अपने एक दिन के वेतन के रूप में अलग से 7.4 करोड़ रुपये की राशि पीएम केयर फण्ड में जमा की। देश एक आपदा की स्थिति में है और ऐसे कठिन समय में इस महारत्न सार्वजनिक उद्यम ने लोगों की मदद का बीड़ा उठाया है और पूरे देश भर में फैले अपने विशाल नेटवर्क और कार्यालयों के माध्यम से विस्तृत राहत अभियान चला रहा है।

कश्मीर से कन्याकुमारी और अरुणाचल से कच्छ तक फैले अपने देशव्यापी पारेषण नेटवर्क के कुशल संचालन के माध्यम से पावरग्रिड बिजली की निर्बाध आपूर्ति बनाये हुए है। पारेषण लाइनों के रख- रखाव के लिए कंपनी के इंजीनियर पूरे देश में मुस्तैद हैं। कंपनी का उच्च प्रबंधन भी रात-दिन सिस्टम की उपलब्धता बनाये रखने के लिए सेवारत है और कोरोना संक्रमण की वजह से उत्पन्न हो सकने वाले किसी भी आपात स्थिति से निबटने के लिए पावरग्रिड के सभी सब-स्टेशनों के प्रचालन एवं अनुरक्षण की एक बैकअप योजना भी तैयार की गई है।

जरूरतमंदों की मदद के लिए अनाज और भोजन के पैकेट वितरित किए जा रहे हैं। सभी सब-स्टेशनों जिनमें लद्दाख, क़श्मीर, सिक्किम, अरुणाचल एवं मणिपुर जैसे सुदूरवर्ती क्षेत्र भी सम्मिलित हैं, के समीप रहने वाले ग्रामीणों, कंस्ट्रक्शन श्रमिकों और निबंधित मजदूरों को मास्क, साबुन, सैनिटाइज़र और मेडिकल सहायता प्रदान की जा रही है। इस सहायता अभियान के दौरान संक्रमण को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। जहाँ कहीं आवश्यकता है वहां नियमित तौर पर सैनीटाईजेशन का काम भी किया जा रहा है। पावरग्रिड द्वारा विभिन्न प्रभावित इलाकों में ज़िला प्रशासन और रेड क्रॉस के साथ मिलकर चिकित्सा सामग्री, दवाएं, पीपीई और वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की जा रही है। अब तक पूरे देश भर में 200 से अधिक स्थानों पर कुल 81,000 लाभार्थियों को लगभग रुपये 4.27 करोड़ मूल्य की राशन / खाद्य सामग्री का वितरण किया जा चुका है। असम के कूचबिहार ज़िले के फलाकटा में 500 बिस्तरों वाले एक क़्वारेंटाइन केंद्र की स्थापना के लिए पावरग्रिड द्वारा वित्तीय योगदान दिया गया है। कोरोना महामारी के विश्वव्यापी संक्रमण से उत्पन्न आपदा की इस घड़ी में पावरग्रिड द्वारा किये जा रहे प्रयासों की प्रशासनिक अधिकारियों और आम जनता ने भूरी-भूरी प्रशंसा की है।

आज पावरग्रिड के कर्मचारी पूरे समर्पण के साथ देश सेवा में लगें हैं ताकि देशवासी कोरोना से सुरक्षित रहें और देश इस संकट का मुस्तैदी से सामना कर सके। आइये, इस संकट की घड़ी में हम घर में रहने का संकल्प लें, संक्रमण रोकें, स्वयं सुरक्षित रहें और दूसरों को भी सुरक्षित रखें।

Next Story