Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जुलूस निकालने की इजाजत न मिलने पर गुरुद्वारे के बाहर पुलिसकर्मियों पर हमला, हिरासत में लिये गये 17 लोग

उपद्रव के बाद करीब 200 लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307, 324 और 188 में दर्ज किया गया केस। पुलिस वायरल वीडियो को देख आरोपियों की पहचान में जुटी।

जुलूस निकालने की इजाजत न मिलने पर गुरुद्वारे के बाहर पुलिसकर्मियों पर हमला, हिरासत में लिये गये 17 लोग
X

जुलूस निकलाने की इजाजत न मिलने पर गुरुद्वारे के बहार पुलिसकर्मियों पर हमला, हिरासत में लिये गये 17 लोग

महाराष्ट्र के नांदेड़ में होली पर जुलूस निकालने की इजाजत नहीं मिलने पर तलवारों से लैस सिखों ने गुरुद्वारे पर तैनात पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। इस दौरान सुरक्षा के लिए लगाई गई बैरिकेडिंग को भी हटा दिया गया। इस हमले में कई पुलिस कर्मी घायल हो गये। जिसके बाद मंगलवार को पुलिस ने हमला करने वाले 17 लोगों को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी शुरू कर दी है।

तेजी से वायरल हुई वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे हाथों में तलवार लिये कुछ लोग गुरुद्वारे की तरफ बढ़ रहे हैं। इस दौरान भीड़ ने सुरक्षा में लगे बैरिकेड्स को तोड़ते हुए पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। इस हमले में 4 से ज्यादा पुलिसकर्मी बुरी तरह घायल हो गये। वहीं उपद्रवियों ने मौके पर मौजूद पुलिस की गाड़ियों में भी जमकर तोड़फोड़ की। जिसके बाद पुलिस ने इस मामले में गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। साथ ही अब तक 17 लोगों को हिरासत में ले लिया है।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस की गाइडलाइंस की वजह से इस बार होला मौहल्ला जुलूस के लिए अनुमति नहीं दी गई थी। इसके लिए गुरुद्वारा की कमेटी को जानकारी दे दी गई थी। जिसके बाद गुरुद्वारा कमेटी ने यहां पर बिना किसी जुलूस निकाले एक छोटा सा प्रोग्राम गुरुद्वारे के अंदर ही करने का फैसला किया। यह प्रोग्राम शाम को 4 बजे शुरू हुआ था। इसके लिए निशान साहिब को द्वार पर लगाया गया था। इसबीच ही यहां कई लोगों की बहस शुरू हो गई थी। जिसके बाद 300 से ज्यादा युवा बाहर आए और बैरिकेड़ तोड़ते हुए सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों पर हमला बोल दिया। भीड़ ने कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। डीआईजी ने बताया कि इस उपद्रव के बाद करीब 200 लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307, 324 और 188 में मामला दर्ज किया गया है। पुलिस वायरल वीडियो को देख आरोपियों की पहचान कर रही है।

और पढ़ें
Next Story