Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीएम मोदी ने मिर्जापुर और सोनभद्र को दी नई सौगात, ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं का किया शिलान्यास, सीएम योगी भी मौजूद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर और सोनभद्र जिलों में करोड़ों रुपये की ग्रामीण पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं का शिलान्यास किया है।

पीएम मोदी ने मिर्जापुर और सोनभद्र को दी नई सौगात, ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं का किया शिलान्यास, सीएम योगी भी मौजूद
X

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर और सोनभद्र जिलों में ग्रामीण पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं के लिए आधारशिला रखी। इस मौके पर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम में हुए।

मिर्जापुर और सोनभद्र को केंद्र सरकार की तरफ से 5555 करोड़ रुपये की 23 परियोजनाओं का शिलान्यास किया है। अब जल्द ही यहां के लोगों को हर घर नल योजना के तहत पानी मिलेगा। पीएम मोदी ने संबोधन के दौरान कहा कि इन योजनाओं से पेय जल संकट दूर होगा। विंध्याचल के 3 हजार से ज्यादा गांवों को इस योजना का अगले 6 महीने से लाभ मिलेगा।

पीएम मोदी ने कहा कि जीवन की बड़ी समस्या जब हल होने लगती है तो अलग ही विश्वास झलकने लगता है। ये विश्वास, उत्साह आपमें मैं देख पा रहा था। पानी के प्रति आपमें संवेदनशीलता कितनी है, ये भी दिख रहा है। सरकार आपकी समस्याओं को समझकर उनका समाधान कर रही है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हर घर जल पहुंचाने के अभियान को अब एक साल से भी ज्यादा समय हो गया है। इस दौरान देश में 2 करोड़ 60 लाख से ज्यादा परिवारों को उनके घरों में नल से शुद्ध पीने का पानी पहुंचाने का इंतजाम किया गया है। इसमें लाखों परिवार उत्तर प्रदेश के भी हैं।

वहीं पीएम ने कहा कि आज जिस प्रकार उत्तर प्रदेश में जिस प्रकार से एक के बाद एक योजनाएं लागू हो रही हैं, उससे उत्तर प्रदेश की, यहां की सरकार की और यहां के सरकारी कर्मचारियों की छवि पूरी तरह बदल रही है। आने वाले समय में जब यहां के 3 हजार गांवों तक पाइप से पानी पहुंचेगा तो 40 लाख से भी ज्यादा साथियों का जीवन बदल जाएगा। इससे यूपी के, देश के हर घर तक जल पहुंचाने के संकल्प को भी ताकत मिलेगी।

पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के दशकों बाद तक ये क्षेत्र उपेक्षा का शिकार रहा है। ये पूरा क्षेत्र संसाधनों के बाद भी अभाव का क्षेत्र बन गया। इतनी अधिक नदियां होने के बाद भी इस क्षेत्र की पहचान सबसे ज्यादा प्यासे, सूखा प्रभावित क्षेत्र की रही। विंध्य पर्वत का ये विस्तार पुरातन काल से ही विश्वास, पवित्रता, आस्था का एक बहुत बड़ा केंद्र रहा है। रहीमदास जी ने भी कहा कि "जा पर विपदा परत है, सो आवत एहिं देस"

सोनभद्र में पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं के शिलान्यास समारोह में सीएम योगी ने कहा कि 70 साल में विंध्य क्षेत्र के केवल 398 गांवों में पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं को विनियमित किया जा सका। आज हम इस क्षेत्र के 3000 से अधिक गांवों में इस तरह की परियोजनाओं को आगे बढ़ाने जा रहे हैं।



Next Story