Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

PM Modi Speech 10 Points : राज्यसभा में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें

PM Modi Speech 10 Points : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज राज्यसभा में अपने भाषण (Modi Speech) में कांग्रेस पर जमकर तंज कसे और शेर भी पढ़े। पीएम मोदी ने चमकी बुखार, मोब लिंचिंग, न्यू इण्डिया समेत कई मुद्दों पर अपनी बात रखी। आइये जानते हैं राज्यसभा में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें...

PM Modi Speech 10 Points : राज्यसभा में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंPM Modi Speech 10 Points Modi Rajya Sabha Speech Modi Ka Bhashan

PM Modi Speech 10 Points : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज राज्यसभा में अपने भाषण (Modi Speech) में कांग्रेस पर जमकर तंज कसे और शेर भी पढ़े। पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव में भाजपा को मिली पूर्ण बहुमत को 'देश की हार' बताने पर कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि कांग्रेस के हारने से देश नहीं हार जाता, आपने हमारा नहीं करोड़ों मतदाताओं, किसानों और मीडिया का अपमान किया है। भाजपा की जीत को लोकतंत्र तथा देश की हार बताना लोकतंत्र का अपमान है। कांग्रेस हारी तो देश हार गया..? देश यानी कांग्रेस, कांग्रेस यानी देश ये क्या है.. ? अहंकार की एक सीमा होती है..? कांग्रेस के हारने से देश नहीं हार जाता, कांग्रेस देश नहीं है। पीएम मोदी ने ग़ालिब शेर पढ़ते हुए कहा कि शायद इसीलिए ग़ालिब ने कहा था कि ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, धूल चेहरे पर थी और मैं आइना साफ़ करता रहा... इसके आलावा पीएम मोदी ने चमकी बुखार, मोब लिंचिंग, न्यू इण्डिया समेत कई मुद्दों पर अपनी बात रखी। आइये जानते हैं राज्यसभा में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें...

PM Modi Speech 10 Points / पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें

1.) पीएम मोदी ने कहा कि मैं सबका आभार प्रकट करता हूं कि आपने पहले से अधिक जनसमर्थन और विश्वास के साथ हमें दोबारा देश की सेवा करने का अवसर दिय है। इतने बड़े जनादेश को कुछ लोग ये कह दें कि आप तो चुनाव जीत गए लेकिन देश चुनाव हार गया। मैं समझता हूं कि इससे बड़ा भारत के लोकतंत्र और जनता जनार्दन का कोई अपमान नहीं हो सकता। मैं पूछना चाहूंगा कि क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया क्या? क्या रायबरेली में हिन्दुस्तान हार गया? क्या बहरामपुर और तिरुवनंतपुरम में हिंदुस्तान हार गया क्या? और क्या अमेठी में हिंदुस्तान हार गया? मतलब कांग्रेस हारी तो देश हार गया क्या? अहंकार की भी एक सीमा होती है।

2.) पीएम मोदी ने कहा कि मैं हैरान हूं, मीडिया को भी गाली दी गई कि मीडिया के कारण चुनाव जीते जाते हैं। मीडिया बिकाऊ है क्या? जो खरीद कर चुनाव जीत लिए जाएं। तमिलनाडु जैसे राज्यों में भी यही लागू होगा क्या? ये तक कह दिया कि देश का किसान बिकाऊ है। दो-दो हजार रुपये की योजना के कारण किसानों के वोट खरीद लिए गए। मैं मानता हूं कि मेरे देश का किसान बिकाऊ नहीं हो सकता। ऐसी बात कहकर देश के करीब 15 करोड़ किसान परिवारों को अपमानित किया गया है।

3.) पीएम मोदी ने कहा कि जिससे अपने साथियों को बताया जाये कि देखो देखो हम तो EVM के कारण हारे। आत्मचिंतन करने और अपनी गलतियों को स्वीकारने की जिनकी तैयारी नहीं होती वो फिर EVM पर ठीकरा फोड़ते हैं। जब स्वयं पर भरोसा नहीं होता है, सामर्थ्य का अभाव होता है, तब फिर बहाने ढूंढे जाते हैं। कभी सदन में हम भी 2 रह गए थे। हमको 2 या 3 बस, कहकर बार-बार हमारी मजाक उड़ायी जाती थी। लेकिन हमें कार्यकर्ताओं पर भरोसा था, देश की जनता पर भरोसा था। हममें परिश्रम करने की पराकाष्ठा थी और इससे हमने फिर से पार्टी को खड़ा किया। हमने ईवीएम पर दोष नहीं दिया था।

4.) आपको OLD INDIA चाहिए, जहां पत्रकार वार्ता में कैबिनेट के निर्णय को फाड़ दिया जाए, जहां पूरी नौसेना को सैर सपाटे के लिए इस्तेमाल लिया जाए। जहां जल थल और नभ हर जगह घोटाले ही घोटाले हों। लेकिन देश की जनता हिन्दुस्तान को पुराने दौर में ले जाने के लिए कतई तैयार नहीं है। देश की जनता अपने सपनों के अनुरूप नए भारत की प्रतीक्षा कर रही है और हम सभी को सामूहिक प्रयासों से सामान्य मानवी के सपनों को पूरा करने का प्रयास करना चाहिए।

5.) पीएम ने कहा कि मैं हैरान हूं कि नकारात्मकता और विरोधाभास इस हद तक गया कि शौचालय, स्वच्छता, जनधन, योग का कार्यक्रम और यहां तक की मेक इन इंडिया का भी मजाक उड़ाया गया। हर चीज में देश ने नकारात्मकता को भली-भांति देखा गया है। क्या हमें वो ओल्ड इंडिया चाहिए जो टुकड़े-टुकड़े गैंग को सपोर्ट करने के लिए पहुंच जाए। जहां इंस्पेक्टर राज हो, जहां इंटरव्यू के नाम पर भ्रष्टाचार हो। देश की जनता हिंदुस्तान को पुराने दौर में ले जाने के लिए कतई तैयार नहीं।


6.) पीएम मोदी ने कहा कि सबका साथ सबका विकास का मंत्र लेकर हम चले थे लेकिन 5 साल के हमारे कार्यकाल को देखकर देश की जनता ने उसमें सबका विश्वास रुपी अमृत जोड़ा है। लेकिन आजाद साहब को कुछ धुंधला नजर आ रहा है, जब तक राजनीतिक चश्मे से सब देखा जायेगा तो धुंधला ही नजर आएगा और इसलिए अगर हम राजनीतिक चश्में उतारकर हम देखेंगे तो देश का भविष्य नजर आएगा। शायद इसीलिए ग़ालिब ने कहा था कि ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, धूल चेहरे पर थी और मैं आइना साफ़ करता रहा।

7.) प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा मानना है कि सरदार साहब अगर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो शायद आज देश में जम्मू-कश्मीर की समस्या नहीं होती, हिंदुस्तान के गांवों की आज जो जद्दोजहद है वो भी न होती। सरदार साहब को कांग्रेस ने देश का पहला गृहमंत्री बनाया था, वो पक्के कांग्रेसी थे। लेकिन मैं हैरान हूं कि जब गुजरात में चुनाव होते हैं तो वो कांग्रेस के पोस्टर में नजर आते हैं, लेकिन देश भर में कहीं नजर नहीं आते।

8.) पीएम मोदी ने कहा कि एनआरसी का क्रेडिट कांग्रेस को भी लेनी चाहिए। राजीव गांधी सरकार ने असम एकॉर्ड में एनआरसी को स्वीकार किया था। हमें सुप्रीम कोर्ट ने आदेश किया तो हम उसे लागू कर रहे हैं। आप भी क्रेडिट लीजिए न। वोट भी लेना है और क्रेडिट भी नहीं लेना। आधा बोलना और आधा न बोलना ऐसा न कीजिए। सरदार साहब के सम्मान में हमने जो स्टेचू ऑफ यूनिटी बनाया हैं, मैं आग्रह करूंगा कि कांग्रेस के सबसे बड़े नेता एक बार तो वहां जाकर श्रद्धा सुमन अर्पित करके आएं। मैं गुलाम नबी जी से भी अनुरोध करूंगा 'कुछ दिन तो गुजारिये गुजरात में'।

9.) पीएम मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना की ताकत हर उस सांसद को पता है जो जिसने अपने इलाके के गरीब के इलाज के प्रधानमंत्री को कभी चिठ्ठी लिखी हो। अब चिठ्ठी नहीं लिखनी पड़ती। क्योंकि आयुष्मान भारत योजना से गरीबों को फायदा मिल रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय जाने की अब जरूरत नहीं है।

10.) पिछले दिनों बिहार के चमकी बुखार की चर्चा हुई है। आधुनिक युग में ऐसी स्थिति हम सभी के लिए दु:खद और शर्मिंदगी की बात है। इस दु:खद स्थिति में हम राज्य के साथ मिलकर मदद पहुंचा रहे हैं। ऐसी संकट की घड़ी में हमें मिलकर लोगों को बचाना होगा। राज्य सभा में आपको हमे नीचा दिखाने में आपको आनंद आता है, खुशी की बात है। पिछले 5 साल में बहुत से काम यहां लटके हुए हैं, बहुत से बिल यहां अटके। अब वो बिल फिर से लोकसभा में पास किए जाएंगे, घंटो का समय लगेगा और टैक्सपेयर का पैसा खर्च होगा, हम इसे रोक सकते हैं।

Share it
Top