Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राज्यसभा में पीएम मोदी ने कांग्रेस पर कसा तंज, इन मुद्दों पर रखी बेबाक राय

राज्यसभा में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं हैरान हूं, मीडिया को भी गाली दी गई कि मीडिया के कारण चुनाव जीते जाते हैं। मीडिया बिकाऊ है क्या? जो खरीद कर चुनाव जीत लिए जाएं। तमिलनाडु जैसे राज्यों में भी यही लागू होगा क्या।

राज्यसभा: राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद पीएम मोदी का संबोधन, जनता ने दोबारा सेवा का मौक दियाParliament Live Updates Rajya Sabha PM Modi addressed after President Speech

संसद सत्र के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के बाद राज्यसभा को संबोधित कर रहे हैं। संबोधन के शुरू में पीएम मोदी ने देशवासियों का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि देशवासियों ने दोबारा सेवा करने का मौका दिया। उसके बाद राज्यसभा में मंत्रियों के बारे में बताया।

पीएम मोदी का लाइव भाषण -

पीएम मोदी ने संबोधन के दौरान कहा कि पहले से अधिक जनसमर्थन और विश्वास के साथ हमें दोबारा देश की सेवा करने का अवसर देशवासियों ने दिया है। मैं सबका आभार प्रकट करता हूं। दशकों बाद देश ने एक मजबूत जनादेश दिया है, एक सरकार को दोबारा फिर से लाए हैं और पहले से अधिक शक्ति देकर लाए हैं।

आगे कहा कि भारत जैसे लोकतंत्र में हर भारतीय के लिए गौरव का विषय है कि हमारा मतदाता कितना जागरुक है। देश के लिए निर्णय करता है, यह चुनाव में साफ साफ नजर आया। 2019 का चुनाव एक प्रकार से दलों से परे देश की जनता लड़ रही थी। जनता खुद सरकार के कामों की बात लोगों तक पहुंचाती थी।

कांग्रेस पर साधा निशाना

हारने वाले को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि जिसे लाभ नहीं मिला वो भी ये बात करता था कि उस व्यक्ति को लाभ मिल गया है अब मुझे भी मिलने वाला है। इस विश्वास की एक अहम विशेषता है। मैं पूछना चाहूंगा कि क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया क्या? क्या रायबरेली में हिन्दुस्तान हार गया। क्या बहरामपुर और तिरुवनंतपुरम में हिंदुस्तान हार गया क्या? और क्या अमेठी में हिंदुस्तान हार गया। तलब कांग्रेस हारी तो देश हार गया क्या। अहंकार की भी एक सीमा होती है।

इतना ही नहीं उन्होंने आगे यह भी कहा कि इतने बड़े जनादेश को कुछ लोग ये कह दें कि आप तो चुनाव जीत गए लेकिन देश चुनाव हार गया। मैं समझता हूं कि इससे बड़ा भारत के लोकतंत्र और जनता जनार्दन का कोई अपमान नहीं हो सकता।

लोगों ने मीडिया को बिकाऊ कहा

उन्होंने आगे कहा कि मैं हैरान हूं, मीडिया को भी गाली दी गई कि मीडिया के कारण चुनाव जीते जाते हैं। मीडिया बिकाऊ है क्या? जो खरीद कर चुनाव जीत लिए जाएं। तमिलनाडु जैसे राज्यों में भी यही लागू होगा क्या। ये तक कह दिया कि देश का किसान बिकाऊ है। दो-दो हजार रुपये की योजना के कारण किसानों के वोट खरीद लिए गए। मैं मानता हूं कि मेरे देश का किसान बिकाऊ नहीं हो सकता। ऐसी बात कहकर देश के करीब 15 करोड़ किसान परिवारों को अपमानित किया गया है।

ईवीएम पर दिया बड़ा बयान

आगे कहा कि 55-60 वर्ष तक देश को चलाने वाला एक दल 17 राज्यों में एक भी सीट नहीं जीत पाया तो क्या इसका मतलब ये हुआ कि देश हार गया। जब स्वयं पर भरोसा नहीं होता है, सामर्थ्य का अभाव होता है, तब फिर बहाने ढूंढे जाते हैं। आत्मचिंतन करने और अपनी गलतियों को स्वीकारने की जिनकी तैयारी नहीं होती वो फिर ईवीएम पर ठीकरा फोड़ते हैं। जिससे अपने साथियों को बताया जाये कि देखो देखो हम तो ईवीएम के कारण हारे।

इतना ही नहीं वो यहीं नहीं रूके और कहा कि इस चुनाव की एक विशेषता है कि ईस्ट, वेस्ट, नॉर्थ, साउथ सभी कोने से बहुमत के साथ बीजेपी और एनडीए जीतकर आया हैं। जो हार गए हैं, जिनके सपने चूर-चूर हो गए वो मतदाताओं का अभिनंदन नहीं कर सकते होंगे। मैं मतदाताओं का सिर झुकाकर कोटि-कोटि अभिनंदन करता हूं।

दो सांसद पर हमारा भी मजाक उड़ा

वहीं कांग्रेस के मजाक पर कहा कि कभी सदन में हम भी 2 रह गए थे। हमको 2 या 3 बस, कहकर बार-बार हमारा मजाक उड़ाया जाता था। लेकिन हमें कार्यकर्ताओं पर भरोसा था, देश की जनता पर भरोसा था। हममें परिश्रम करने की पराकाष्ठा थी और इससे हमने फिर से पार्टी को खड़ा किया। हमने ईवीएम पर दोष नहीं दिया था।

कांग्रेस नेताओं से पीएम मोदी ने की अपील

आगे कहा कि हमारा मानना है कि सरदार साहब अगर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो शायद आज देश में जम्मू-कश्मीर की समस्या नहीं होती, हिंदुस्तान के गांवों की आज जो जद्दोजहद है वो भी न होती। सरदार साहब के सम्मान में हमने जो स्टेचू ऑफ यूनिटी बनाया हैं, मैं आग्रह करूंगा कि कांग्रेस के सबसे बड़े नेता एक बार तो वहां जाकर श्रद्धा सुमन अर्पित करके आएं। मैं गुलाम नबी जी से भी अनुरोध करूंगा 'कुछ दिन तो गुजारिये गुजरात में'।

आयुष्मान भारत योजना पर बोले पीएम मोदी

वहीं पीएम मोदी ने आयुष्मान भारत योजना की ताकत हर उस सांसद को पता है जो जिसने अपने इलाके के गरीब के इलाज के प्रधानमंत्री को कभी चिठ्ठी लिखी हो। अब चिठ्ठी नहीं लिखनी पड़ती। क्योंकि आयुष्मान भारत योजना से गरीबों को फायदा मिल रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय जाने की अब जरूरत नहीं है।

Share it
Top