Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Viral Video: पेंशन के लिए फिजिकल वेरिफिकेशन पर अड़े अधिकारी, 100 साल की मां को घसीटते हुए बेटी पहुंची बैंक

एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है(Social Media Viral Video)। जहां एक महिला अपनी 100 साल की मां को चारपाई सहित घसीटते हुए पैंशन की वेरिफिकेशन के लिए बैंक ले जा रही है (Woman Drags Her Mother On Cot)। ताकि उसे 500 रूपये मिल सकें।

Viral Video: पेंशन के लिए फिजिकल वेरिफिकेशन पर अड़े अधिकारी, 100 साल की मां को चारपाई समेत घसीटते हुए पहुंची बैंक
X
बैंक से जनधन खाते में आई पेंशन निकलना चाहती थी महिला (फाइल फोटो)

Viral Video: सोशल मीडिया (Social Media) पर आएदिन वीडियो वायरल होते रहते हैं( Trending Video)। जिसमें कुछ फनी वीडियो होते हैं, तो कुछ वीडियो दिल को झजकोर कर रख देते हैं। वहीं ऐसा ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है(Social Media Viral Video)। जहां एक महिला अपनी 100 साल की मां को चारपाई सहित घसीटते हुए पैंशन की वेरिफिकेशन के लिए बैंक ले जा रही है (Woman Drags Her Mother On Cot)। ताकि उसे 500 रूपये मिल सकें।

पेंशन को निकलवाना चाहती थी

यह मामला ओडिशा के नौपारा जिले का है। वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि 60 साल की पूंजीमति देई अपनी मां को चारपाई पर सुलाकर चारपाई को घसीटते हुए बैंक लेकर जा रही है। महिला जनधन खाते में आई पेंशन को निकलवाना चाहती थी। जिसपर महिला का दावा है कि बैंक मैनेजर ने उनकी मां को फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए उन्हें बैंक में आने के लिए कहा था।

मां चारपाई से उठ नहीं सकती हैं

देई का कहना है कि उनकी मां चारपाई से उठ नहीं सकती हैं। इस कारण उन्हें ऐसे ले जाने के सिवा कोई दूसरा चारा नजर नहीं आया। देई ने बताया कि मां को ऐसे बैंक ले जाने के बाज मैंनेजर ने उन्हें पैंशन के रूपये दे दिए हैं।

Also Read: मेकअप आर्टिस्ट सपना भावनानी ने सुंशात सिंह को लेकर किया बड़ा खुलासा

लोग तरह तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं

वीडियो के वायरल होते ही लोग तरह तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। और कुछ लोग कॉमेंट करके अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। वहीं एक यूजर ने लिखा कि शर्म आनी चाहिए ग्रामीणों को बेसहारो को सहायता तो कमसे कम किया होता। फिर भी एक बेटी अपनी मां को किसी भी हालात में नही छोड़ सकती , उनकी बेटी को मेरा सलाम। तो वहीं दूसरे यूजर ने लिखा कि वीडियो बना रहे थे। इनकी मदद नही कर सकते थे। यह है हमारे देश की हालात।


और पढ़ें
Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story