Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Covid-19 महामारी की पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर में कम रही अस्पताल में भर्ती पुरुषों की संख्या: अध्ययन

अध्ययन में यह तथ्य भी निकलकर सामने आया कि देश में कोरोना की दूसरी लहर पहले की तुलना में थोड़ा अलग थी। कोविड-19 (Covid-19) की दूसरी लहर में 20 वर्ष से कम उम्र के लोगों को छोड़कर सभी आयु ग्रुप वाले लोगों में हाई मृत्यु दर (high death rate) दर्ज की गई थी।

Covid-19 महामारी की पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर में कम रही अस्पताल में भर्ती पुरुषों की संख्या: अध्ययन
X

भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर कम हो गई है। लेकिन स्टडी में बड़ी बात सामने आई है। स्टडी में सामने आया है कि भारत (India) में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती पुरुषों का अनुपात पहली लहर की संख्या से कम था। स्टडी (अध्ययन) रिपोर्ट 'इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च' (Indian Journal of Medical Research) में प्रकाशित हुई है। जिसे भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research), अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (All India Institute of Medical Sciences) और राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र के विशेषज्ञों के द्वारा अंजाम दिया गया है।

अध्ययन में यह तथ्य भी निकलकर सामने आया कि देश में कोरोना की दूसरी लहर पहले की तुलना में थोड़ा अलग थी। कोविड-19 (Covid-19) की दूसरी लहर में 20 वर्ष से कम उम्र के लोगों को छोड़कर सभी आयु ग्रुप वाले लोगों में हाई मृत्यु दर (high death rate) दर्ज की गई थी। ज्यादातर लोगों को सांस लेने में परेशानी हुई थी। साथ ही लोगों को ऑक्सीजन (Oxygen) और यांत्रिक वेंटिलेशन की जरूरत थी।

अध्ययन में सामने आया है कि कोरोना (Corona) की इन दो लहरों के दौरान भर्ती किए गए कोरोना मरीजों (corona patients) की जनसांख्यिकीय और नैदानिक ​​विशेषताओं में अंतर का वर्णन करने के लिए कोविड-19 (Covid-19) के लिए राष्ट्रीय क्लिनिकल ​​रजिस्ट्री (National Clinical Registry) के तहत एकत्र किए गए आंकड़ों का विश्लेषण किया गया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्टडी में यह भी सामने आया है कि अस्पताल में भर्ती और कोरोना मरीजों के जनसांख्यिकीय, नैदानिक, उपचार और परिणाम आंकड़ों को पूरे भारत के 41 अस्पतालों के इलेक्ट्रॉनिक डेटा पोर्टल (electronic data portal) में डाला गया था। इसमें कहा गया है कि 1 सितंबर 2020 और 31 जनवरी 2021 के बीच और 1 फरवरी से 11 मई 2021 के बीच नामांकित मरीज इन दो लहरों के प्रतिभागियों में शामिल थे।

Next Story