Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

निर्भया गैंगरेप केस : सुप्रीम कोर्ट ने विनय की मानसिक स्थिति खराब वाली याचिका खारिज की

निर्भया गैंगरेप केस : सुप्रीम कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को आदेश दिया था कि वो इस केस से जुड़े सभी दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में कोर्ट में जमा करें।

निर्भया गैंगरेप केस : सुप्रीम कोर्ट दोषी विनय की याचिका पर आज सुनएगा फैसलासुप्रीम कोर्ट

निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gangrape Case) : सुप्रीम कोर्ट आज निर्भया गैंगरेप मामले में दोषी विनय कुमार शर्मा मानसिक स्थिति खराब वाली याचिका पर अपना फैसला सुना दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने विनय की याचिका को खारिज करते हुए अपने आदेश में कहा कि मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया है कि विनय मनोवैज्ञानिक तौर पर फिट है और उसकी मेडिकल स्थिति स्थिर है। मिली जानकारी के मुताबिक अभी सुप्रीम कोर्ट राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा खारिज की गई दया याचिका के मामले में अपना फैसला सुनाएगा।

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सुनवाई के बाद अपना फैसला दोपहर 2 बजे तक के लिए सुरक्षित रख लिया था। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को आदेश दिया था कि वो इस केस से जुड़े सभी दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में कोर्ट में जमा करें।

राष्ट्रपति द्वारा दया खारिज करने को किया था चैलेंज

निर्भया गैंगरेप मामले में दोषी विनय कुमार शर्मा की तरफ से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देते हुए याचिका दाखिल की थी। जिसमे कहा गया था कि पूरी प्रक्रिया का पालन किए बिना उसकी दया याचिका पर जल्दबाजी में फैसला लिया गया है। बता दें कि राष्ट्रपति ने एक फरवरी को दोषी विनय कुमार शर्मा की दया याचिका को खारिज कर दिया था।

कोर्ट में रो पड़ी थी निर्भया की मां

बता दें कि 12 फरवरी को पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया दोषियों के डेथ वारंट जारी करने की याचिका पर सुनवाई टाल दी थी। जिसके बाद आहत होकर कोर्ट में ही निर्भया की मां रोने लगीं थीं। उन्होंने जज साहब के सामने हाथ जोड़कर कहा कि हमेशा दोषियों का सुना जाता है, हमें नहीं। मैं इंसाफ के लिए कई सालों से अदालत की चक्कर लगा रही हूं। लेकिन हर रोज दोषी नया बहाना बनाकर फांसी के तारीख को खींचने की कोशिश कर रहा है। जिसपर कोर्ट भी दोषियों का ही साथ दे रहा है। वहीं निर्भया के पिता ने कहा कि दोषियों को वकील देना अन्याय होगा।

Next Story
Top