Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राफेल में पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई में आया नया मोड़, CJI ने पूछा- राहुल गांधी का जवाब कहां है?

राफेल मामले में उस समय नया मोड़ आ गया, जब चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई ने राफेल में पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए अचानक पूछ लिया कि कोर्ट की अवमानना के मामले में राहुल गांधी का जवाब कहा है? सीजेआई के इस सवाल से कोर्ट में मौजूद सभी लोग सकते में आ गए।

राफेल में पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई में आया नया मोड़, CJI ने पूछा- राहुल गांधी का जवाब कहां है?

राफेल मामले में उस समय नया मोड़ आ गया, जब चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई ने राफेल में पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए अचानक पूछ लिया कि कोर्ट की अवमानना के मामले में राहुल गांधी का जवाब कहा है? सीजेआई के इस सवाल से कोर्ट में मौजूद सभी लोग सकते में आ गए। दोनों पक्षों के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई टालते हुए दोनों मामलों की सुनवाई के लिए 10 मई की तारीख तय की है।

दोनों पक्ष के वकील बोले- 10 को होना है सुनवाई

इसके बाद कोर्ट में मौजूद दोनों पक्षों के वकील और कोर्ट मास्टर ने मुख्य न्यायाधीश को बताया कि आज पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई होनी है, अवमानना मामले में के लिए कोर्ट ने 10 मई की तारीख तय की थी।

सीजेआई बोले- यह कैसे हो सकता है

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति केएम जोसेफ की पीठ ने आश्चर्य व्यक्त किया कि पुनर्विचार याचिकायें और राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना याचिका अलग अलग तारीखों पर कैसे सूचीबद्ध हैं जबकि उसने दोनों ही मामलों की एकसाथ सुनवाई करने का आदेश दिया था। पीठ कहा कि हम थोड़ा उलझन में हैं कि दो मामले दो अलग-अलग तारीखों पर सूचीबद्ध हैं जबकि इनकी एकसाथ सुनवाई करने का आदेश था।''

आदेश में थीं अलग-अलग तारीखें

बता दें कि पिछली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने ओपन कोर्ट में पुनर्विचार और अवमानना मामलों की सुनवाई के लिए 6 मई की तारीख तय की थी, लेकिन शाम को जब कोर्ट का आदेश आया तो उसमें पुनर्विचार याचिका के लिए 6 मई और राहुल गांधी के खिलाफ अदालत की अवमानना के मामले में 10 मई की तारीख लिखी थी।

चौकीदार चोर है का मामला

राहुल गांधी ने नरेन्द्र मोदी के खिलाफ 'चौकीदार चोर है' की अपमानजनक टिप्पणी की थी जिसके बारे में उच्चतम न्यायालय ने कहा था कि यह उसके नाम से गलत कहा गया है। शीर्ष अदालत ने 30 अप्रैल को राहुल गांधी को अपनी टिप्पणियों के बारे में एक और हलफनामा दाखिल करने के लिये अंतिम अवसर दिया था। कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने वकील के माध्यम से यह स्वीकार किया था कि उन्होंने इस टिप्पणी को गलत तरीके से शीर्ष अदालत के नाम से कहकर गलती की थी।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचे तेज बहादुर यादव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रहे बर्खास्त बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव अपना नामांकन खारिज होने पर सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं। उन्‍होंने चुनाव आयोग के नामांकन रद्द करने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। तेज बहादुर ने सुप्रीम कोर्ट से आयोग के फैसले पर विचार करने की मांग की।

Next Story
Top