Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विदेशों में फंसे भारतीयों की होगी वापसी समुद्र सेतू अभियान का दूसरा चरण अगले सप्ताह से होगा शुरू

नई दिल्ली कोरोना संकट के बीच नौसेना द्वारा दुनिया के दूसरे देशों में फंसे हुए भारतीय नागरिकों की स्वदेश वापसी के लिए चलाए जा रहे ऑपरेशन समुद्र सेतु अभियान का अगले सप्ताह सोमवार से दूसरा चरण शुरू होगा।

भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट बनीं सब लेफ्टिनें शिवांगी, जानें इनके बारे में
X
सब लेफ्टिनें शिवांगी भारतीय नौसेना की महिला पायलट बनीं

नई दिल्ली कोरोना संकट के बीच नौसेना द्वारा दुनिया के दूसरे देशों में फंसे हुए भारतीय नागरिकों की स्वदेश वापसी के लिए चलाए जा रहे ऑपरेशन समुद्र सेतु अभियान का अगले सप्ताह सोमवार से दूसरा चरण शुरू होगा। नौसेना के प्रवक्ता विवेक मड्डवाल ने बताया कि इसके जरिए नौसेना का युद्धपोत जलाश्वा श्रीलंका की राजधानी कोलंबो और मालद्वीप की राजधानी माले से कुल 1400 भारतीय नागरिकों की वापसी करेगा। दोनों देशों से क्रमश: 700, 700 लोग वापस लाए जाएंगे। गौरतलब है कि समुद्र सेतु अभियान के पहले चरण में नौसेना की मदद से 1488 भारतीय नागरिकों को माले से कोच्चि लाया जा चुका है।

श्रीलंका से होगी शुरूआत

अभियान के दौरान पहले जलाश्वा युद्धपोत कोलंबो जाएगा और वहां से भारतीयों की वापसी करेगा। उसके बाद जलाश्वा मालद्वीप की राजधानी माले के लिए प्रस्थान करेगा और वहां से 700 लोगों की वापसी की कवायद शुरू करेगा। दूसरे चरण में भारत वापसी के दौरान जलाश्वा युद्धपोत तमिलनाडु के तूतीकोरिन बंदरगाह के लिए प्रस्थान करेगा। जबकि इसकी भारत से रवानगी कोच्चि से होगी।

भारतीय मिशन मुस्तैद

समुद्र सेतु अभियान के दूसरे चरण को सफल बनाने के लिए कोलंबो से लेकर माले में भारतीय मिशन अपने नागरिकों की वापसी के लिए पूरी तरह से मुस्तैद हो गया है। उनके द्वारा स्वदेश वापसी के इच्छुक नागरिकों की सूची बनाई जा रही है। जलाश्वा युद्धपोत पर कोविड-19 को लेकर बनाए गए दिशानिर्देशों का पूरी तरह से पालन किया जाएगा। स्क्रीनिंग के अलावा सोशल डिस्टेंसिंग इसमें मुख्य है।

समुद्री यात्रा के दौरान युद्धपोत पर नागरिकों को हर प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी सहायता प्रदान के लिए नौसेना के विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक टीम को भी भेजा जाएगा। तूतीकोरिन पहुंचने के बाद सभी भारतीयों को संबंधित राज्य सरकार द्वारा बनाई गई स्वास्थ्य सुविधाओं में रहना होगा। यह अभियान विदेश, गृह, स्वास्थ्य मंत्रालय के अलावा केंद्र और राज्य सरकारों की विभिन्न एजेंसियों के संयुक्त समन्वय द्वारा चलाया जा रहा है।

Next Story
Top