Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के बेटे को भारत सरकार ने आतंकी घोषित किया

तलहा सईद पाकिस्तान भर में लश्कर-ए-तैयबा के विभिन्न केंद्रों का भी सक्रिय रूप से दौरा करता रहा है। वह भारत, इज़राइल, संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों के खिलाफ जिहाद छेड़ने की बातें करता है।

मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के बेटे को भारत सरकार ने आतंकी घोषित किया
X

26/11 Mumbai terror attacks: 26/11 मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड और लश्कर के संस्थापक हाफिज सईद (Hafiz Saeed) के बेटे हाफिज तलहा सईद (Hafiz Talha Saeed) को भारत सरकार (Indian Government) ने आतंकवादी घोषित किया है। एक अधिसूचना में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि 46 वर्षीय हाफिज तलहा सईद भारत और अफगानिस्तान में भारतीय संपत्तियों को निशाना बनाने के लिए लगातार योजना बनाता है। इसके अलावा सईद भारत (India) में आतंकी वारदातों को अंजाम देने के लिए आतंकवादियों की भर्ती करने, फंड जुटाने, आतंकियों को ट्रेनिंग देने, योजना बनाने और हमलों को अंजाम देने में एक्टिव रूप से शामिल रहा है।

तलहा सईद पाकिस्तान भर में लश्कर-ए-तैयबा के विभिन्न केंद्रों का भी सक्रिय रूप से दौरा करता रहा है। वह भारत, इज़राइल, संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों के खिलाफ जिहाद छेड़ने की बातें करता है। सरकार ने लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज मोहम्मद सईद के बेटे हाफिज तलहा सईद को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम 1967 के प्रावधानों के तहत एक नामित आतंकवादी घोषित किया है।

खबरों से मिली जानकारी के अनुसार, हाफिज तलहा सईद आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के मौलवी विंग का चीफ है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में आज एक विस्तृत नोटिफिकेशन जारी किया है। बता दें कि हाफिज सईद 26 नवंबर 2008 के मुंबई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड था, इस आतंकी हमले में 166 लोग मारे गए थे।

हाफिज सईद को कुछ साल पहले इसी कानून के तहत आतंकवादी घोषित किया गया था और वर्तमान में वह पाकिस्तान में आतंकी आरोपों में जेल की सजा काट रहा है। भारत लगातार हाफिज सईद की हिरासत की मांग करता रहा है लेकिन पाकिस्तान ने ऐसा करने से इनकार कर दिया है। बता दें कि 26/11 के हमलों के अलावा लश्कर-ए-तैयबा भारत में कई घातक हमलों के लिए जिम्मेदार रहा है। लश्कर के द्वारा ज्यादातर जम्मू और कश्मीर में हमले किए गए। जिसमें पिछले कुछ वर्षों में कई नागरिक और सुरक्षाकर्मी मारे गए हैं।

और पढ़ें
Next Story