Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Monsoon 2021 Update: मुंबई में भारी बारिश, अब इन राज्यों के लिए भी अलर्ट जारी, जानिये आपके यहां कब तक पहुंचेगा मानसून

मौसम विभाग ने ओडिसा में भारी बारिश की संभावना के चलते रेड अलर्ट जारी किया है, वहीं बिहार के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है।

Monsoon 2021 Update: मुंबई में भारी बारिश, अब इन राज्यों के लिए भी अलर्ट जारी, जानिये आपके यहां कब तक पहुंचेगा मानसून
X
मुंबई में भारी बारिश से कई इलाकों में जलभराव। 

बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव के चलते तेजी से आगे बढ़ रहे मानसून देश के आधे हिस्से में पहुंच चुका है। मुंबई में जहां भारी बारिश के कारण लोगों को परेशानियां झेलनी पड़ रही है, वहीं कई राज्यों में मौसम खुशगवार होने से राहत भी है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले कुछ घंटों में मानसून पश्चिम बंगाल और झारखंड के सभी इलाकों में भी पहुंच जाएगा। आज बंगाल, झारखंड, तेलांगना, उड़ीसा, छत्तीसगढ़ के साथ ही पूर्वी मध्य प्रदेश में भी भारी बारिश होने की संभावना है।

मौसम विभाग ने ओडिसा में भारी बारिश की संभावना के चलते रेड अलर्ट जारी किया है, वहीं बिहार के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है। ओडिसा में अगले पांच दिन तक भारी बारिश की संभावना जताई गई है। मानसून के आगमन से पहले ही उत्तर प्रदेश में भी बारिश हो रही है। कल राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में बारिश होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली।

मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों में पूर्वी यूपी में मानसून के पहुंच जाने की संभावना जताई है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक मानसून झारखंड और बिहार से होते हुए पूर्वांचल के रास्ते यूपी में दाखिल हो सकता है। इसके अलावा गुजरात, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों तक भी मानसून पहुंच जाएगा। पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़ और बिहार में आने वाले दो दिनों तक पहुंचने की उम्मीद है।

एक सप्ताह में दिल्ली पहुंचेगा मानसून

मानसून के आगमन से पहले ही दिल्ली का मौसम भी खुशगवार हो गया है। बीती रात दिल्ली के कई हिस्सों में बारिश भी हुई। हालांकि दिन में धूप खिली रहेगी। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि मानसून इसी रफ्तार से आगे बढ़ता रहा तो सप्ताह के अंत तक यह दिल्ली पहुंच जाएगा।

स्काईमेट वेदर रिपोर्ट के मुताबिक एक से आठ जून के बीच देश में मानसून की 19 फीसदी अधिक बारिश दर्ज हो चुकी है। खास बात है कि दक्षिण हिस्सों में इस बार सामान्य से 47 फीसदी अधिक वर्षा हुई है। मध्य भारत की बात करें तो इस अवधि में 21 फीसद अधिक बारिश हो चुकी है।

Next Story