Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Monkeypox Outbreak: दिल्ली में मिला मंकीपॉक्स का पहला मामला, अमेरिका ने दुनिया से एकजुट होने का किया आह्वान

केरल के बाद राजधानी दिल्ली में अब मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आया है। दुनिया के 70 देश इस महामारी की चपेट में हैं। ऐसे में अमेरिका ने सभी देशों से एकजुट होने का आह्वान किया है। पढ़िये यह रिपोर्ट...

Monkeypox Outbreak: दिल्ली में मिला मंकीपॉक्स का पहला मामला, अमेरिका ने दुनिया से एकजुट होने का किया आह्वान
X

राजधानी दिल्ली में आज मंकीपॉक्स के पहले रोगी की हुई पुष्टि। 

दुनियाभर में हाहाकार मचाने वाले कोरोनवायरस (Coronavirus) के बाद अब मंकीपॉक्स (Monkeypox) ने विश्व को हिलाकर रख दिया है। अमेरिका (America) के व्हाइट हाउस (White House) ने इस महामारी के खिलाफ सभी देशों से एकजुट होने का आह्वान किया है। भारत (India) की बात करें तो अभी तक मंकीपॉक्स के तीन मामले केरल (Kerala) से सामने आ चुके हैं। वहीं राजधानी दिल्ली में आज मंकीपॉक्स के पहले मामले की पुष्टि हुई है। चूंकि यह महामारी तेजी से फैलता है, लिहाजा बेहद सतर्क रहने की जरूरत बताई गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय ने पुष्टि की है कि मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज में भर्ती एक रोगी को मंकीपॉक्स संक्रमण से पीड़ित पाया गया है। पुष्टि रोगी की उम्र 31 साल का है। उसका कोई यात्रा इतिहास नहीं है। उसे बुखार और त्वचा के घावों के साथ अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके स्वास्थ्य पर निगरानी रखी जा रही है।

70 देश मंकीपॉक्स की चपेट में

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शनिवार को 70 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स का प्रसार होने को असाधारण हालात बताया है। यह वैश्विक आपात स्थिति है। डब्ल्यूएचओ ने मंकीपॉक्स को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया। साथ ही इस रोग से निपटने के लिए टीका विकसित करने की जरूरत को रेखांकित किया। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस ए. घेब्रेयसस ने कहा कि वैश्विक स्वास्थ्य संगठन की इमरजेंसी कमेटी के सदस्यों के बीच आम सहमति नहीं बन पाने के बावजूद मंकीपॉक्स को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया गया है। यह पहला मौका है, जब डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने इस तरह की कार्रवाई की है।

अमेरिका ने वैश्विक एकता का किया आह्वान

व्हाइट हाउस ने मंकीपॉक्स के खिलाफ सभी देशों से एकजुट होने का आह्वान किया है। व्हाइट हाउस में महामारी तैयारी कार्यालय के निदेशक राज पंजाबी ने डब्ल्यूएचए की चेतावनी पर कहा है कि मंकीपॉक्स के प्रसार को रोकने के लिए एक समन्वित, अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया आवश्यक है। उन्होंने कहा कि समुदायों को बीमारी के अनुबंध के सबसे बड़े जोखिम से बचाने और वर्तमान प्रकोप से निपटने के लिए आवश्यक है।

अमेरिका के एक अधिकारी ने बताया कि मंकीपॉक्स एक-दूसके के संपर्क में आने से फैल रहा है। इस साल अब तक 60 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स के 14,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। अफ्रीका में पांच मौतें हो चुकी हैं। सीडीसी के डॉ. जेनिफर मैकक्विस्टन ने कहा कि मंकीपॉक्स के प्रसार में यौन संबंध बड़ी वजह थी, लेकिन अब बच्चे भी इस महामारी की चपेट में आ रहे हैं। अमेरिका में अभी तक 2,891 मंकीपॉक्स के मरीज सामने आए हैं। इसमें संक्रमित पुरुष मरीजों की संख्या 99% है।

केरल में तीन मामले सामने आए

भारत में भी मंकीपॉक्स के मामले सामने आए हैं। केरल से मंकीपॉक्स का तीसरा मामला सामने आया है। यह पीड़ित शख्स संयुक्त अरब अमीरात से भारत आया था। उसका अस्पताल में उपचार चल रहा है। खास बात है कि मंकीपॉक्स के तीन मरीज केरल से ही हैं। चूंकि यह महामारी तेजी से फैलती है, लिहाजा राज्य के साथ ही केंद्र सरकार भी सतर्क है। हाल में केंद्र की ओर से उच्च स्तरीय टीम भी केरल भेजी जा चुकी है।

और पढ़ें
Next Story