Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मोहन भागवत ने हर भारतीय को बताया हिन्दू, बोले- हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे

समझदार मुस्लिम नेताओं को कट्टरपंथियों के खिलाफ दृढ़ता से खड़ा हो जाना चाहिए। भारत में अल्पसंख्यक समुदाय को किसी चीज से डरने की जरूरत नहीं है।

मोहन भागवत ने हर भारतीय को बताया हिन्दू, बोले- हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे
X

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh- RSS) के चीफ मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने पुणे (Pune) में ग्लोबल स्ट्रेटेजिक पॉलिसी फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हिंदुओं और मुसलमानों (Hindu-Muslim) के पुरखे एक ही थे और हर भारतीय नागरिक हिंदू है। समझदार मुस्लिम नेताओं को कट्टरपंथियों के खिलाफ दृढ़ता से खड़ा हो जाना चाहिए। भारत में अल्पसंख्यक समुदाय को किसी चीज से डरने की जरूरत नहीं है। क्योंकि, हिंदू किसी से दुश्मनी नहीं रखते हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने आगे कहा कि हिंदू शब्द मातृभूमि, पूर्वज और भारतीय संस्कृति के बराबर है। यह अन्य विचारों का असम्मान नहीं है। हमें मुस्लिम वर्चस्व के बारे में नहीं, बल्कि भारतीय वर्चस्व के बारे में सोचना है। भारत के सर्वांगीण विकास के लिए सभी को मिलकर काम करने की जरूरत है।

खबरों से मिली जानकारी के अनुसार मोहन भागवत ने इसके अलावा कहा कि इस्लाम भारत में आक्रांताओं के साथ आया। यह इतिहास है और इस इतिहास को इसी के रूप में बताना चाहिए। समझदार मुसलमान नेताओं को अनावश्यक मुद्दों का विरोध करना चाहिए। भारत बतौर महाशक्ति किसी को डराएगा नहीं। आरएसएस चीफ ने राष्ट्र प्रथम एवं राष्ट्र सर्वोच्च विषयक संगोष्ठी में कहा कि हिंदू शब्द हमारी मातृभूमि, पूर्वज और संस्कृति की समृद्ध धरोहर का पर्यायवाची है।

और इस संदर्भ में हमारे लिए हर भारतीय हिंदू है। हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे। भारतीय संस्कृति विविध विचारों को समायोजित करती है। भारतीय संस्कृति अन्य धर्मों का सम्मान भी करती है। इस संगोष्ठी में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और कश्मीर केंद्रीय विश्वविद्यालय के चांसलर लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत) सैयद अता हसनैन भी मौजूद थे।

Next Story