Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब मोदी सरकार लेगी गायों का एग्जाम, जीतने पर मिलेगा ये ईनाम

हमारे देश कई सारी परीक्षाएं होती हैं। क्या आपने कभी गायों की परीक्षा के बारे में सुना है। अगर नहीं सुना तो अब आप खुद ही देख लीजिए। अगर आप गाय के बारे में काफी कुछ जानते हैं तो मोदी सरकार की ओर से आयोजित होने वाली उस परीक्षा में भाग ले सकते हैं जो गायों के बारे में ही होगी।

अब मोदी सरकार लेगी गायों का एग्जाम, जीतने पर मिलेगा ये ईनाम
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

हमारे देश कई सारी परीक्षाएं होती हैं। क्या आपने कभी गायों की परीक्षा के बारे में सुना है। अगर नहीं सुना तो अब आप खुद ही देख लीजिए। अगर आप गाय के बारे में काफी कुछ जानते हैं तो मोदी सरकार की ओर से आयोजित होने वाली उस परीक्षा में भाग ले सकते हैं जो गायों के बारे में ही होगी। केन्द्रीय पशुपालन मंत्रालय के अधीन आने वाले राष्ट्रीय कामधेनु आयोग इस परीक्षा का आयोजन करेगा। गायों के बारे में इस तरह की परीक्षा देश में पहली बार होने जा रही है।

देश का कोई भी व्यक्ति स्वेच्छा से इस परीक्षा में शामिल हो सकेगा। जो लोग परीक्षा में भाग लेना चाहते हैं उन्हें कामधेनु आयोग के वेबसाइट पर रजिस्ट्रशन करवाना होगा। परीक्षा चार वर्गों में होगी। प्राथमिक स्तर पर कक्षा 8 तक के छत्रों के लिए , उसके बाद 9वें से 12वीं तक के छात्रों के लिए, 12वीं से आगे के लिए और चौथा आम लोगों के लिए है।

परीक्षा के लिए कोई फीस नहीं लगेगी। हिंदी और अंग्रेज़ी के अलावा परीक्षा 12 अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में आयोजित की जाएगी। प्रश्न पत्र 100 नम्बरों का होगा और सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ होंगे। परीक्षा का एक सिलेबस और पाठ्य सामग्री भी तैयार की गई है जिसे जल्द ही आयोग के वेबसाइट पर डाला जाएगा।

क्या कहना है राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष का

राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष डॉ वल्लभभाई कथेरिया ने कहा कि परीक्षा का मकसद लोगों में गायों के वैज्ञानिक फ़ायदे के बारे में जागरूक करना है। उन्होंने बताया कि भविष्य में ये परीक्षा हर साल ली जाएगी। उन्होंने ये भी बताया कि जो लोग भी परीक्षा में शामिल होंगे उन्हें एक सर्टिफिकेट दिया जाएगा जबकि पहले तीन स्थानों पर आने वाले लोगों को अवॉर्ड भी दिया जाएगा। आयोग के अध्यक्ष डॉ कथेरिया ने इस बात का खंडन किया कि परीक्षा का कुछ भी राजनीति या हिंदुत्व के एजेंडे से कोई लेना देना है।

Next Story