Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कुपोषण से निपटने के लिए सरकार ने शुरू की पायलट योजना, बच्चे खाएंगे ये चावाल

इस योजना के तहत अब आंगनवाड़ी और मिड-डे मील में पौष्टिक चावल दिए जाएगें इसके लिए सरकार ने 147 करोड़ रुपए का बजट जारी किया है। हालही में बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में चमकी बुखार से करीब 150 बच्चे काल के गाल में समा गए।

कुपोषण से निपटने के लिए सरकार ने शुरू की पायलट योजना, बच्चे खाएंगे ये चावालModi Government start pilot project of distributing fortified rice to fight malnutrition kids

देश के अलग-अलग हिस्सों से लगातार आ रही कुपोषण से मरने की खबरों पर सरकार ने जीतने की तैयारी कर ली है। कुपोषण से निपटने के लिए सरकार ने देश के 15 राज्यों में बृहस्पतिवार को पायलट स्कीम (Piliot Project) की शुरुआत की।

इस योजना के तहत अब आंगनवाड़ी और मिड-डे मील में पौष्टिक चावल दिए जाएगें इसके लिए सरकार ने 147 करोड़ रुपए का बजट जारी किया है। हालही में बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में चमकी बुखार से करीब 150 बच्चे काल के गाल में समा गए।

उनकी मौत के प्रमुख कारणों में कुपोषण भी था। राज्य की नीतीश सरकार के साथ केंद्र सरकार की भी इस मामले में जमकर किरकिरी हुई थी। कुपोषण से निपटने के लिए जो चावल सरकार द्वारा अब मुहैया करवाया जाएगा वो फोर्टिफाइड चावल मिनरल और विटामिन से बनता है।

पहले से भेजे जा रहे चावल से इस चावल की तुलना करें तो बहुत अंतर नहीं पाएंगे। इस चावल के बाद सरकार को प्रति किलोग्राम 60 पैसे अधिक खर्च करने पड़ेंगे। इस योजना की जिन राज्यों में शुरुआत की जा रही है उनमें गुजरात, महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, उड़ीसा और बिहार शामिल हैं।

Share it
Top