Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मोदी सरकार ने बजट सत्र को दो दिन रहते ही स्थगित किया, कांग्रेस ने साधा निशाना

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार महंगाई पर चर्चा से भाग गई है। बजट सत्र (Budget Session) को दो दिन रहते ही स्थगित कर करने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने इस मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया है।

मोदी सरकार ने बजट सत्र को दो दिन रहते ही स्थगित किया, कांग्रेस ने साधा निशाना
X

केंद्र सरकार (Central Government) ने बजट सत्र को दो दिन रहते ही स्थगित कर दिया है। जिसको लेकर कांग्रेस (Congress) ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार महंगाई पर चर्चा से भाग गई है। बजट सत्र (Budget Session) को दो दिन रहते ही स्थगित कर करने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने इस मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने कहा कि महंगाई (Dearness) पर हमने सदन में सवाल पूछा, कई चीजों पर हमने उनसे बात की, पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel), सीएनजी (CNG) के दाम जो बढ़ रहे हैं, वह दिन व दिन बढ़ रहे हैं। चुनाव के दौरान सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दामों को कम रखा। चुनाव के बाद उन्होंने ईंधन की कीमतों को बढ़ाना शुरू कर दिया। केंद्र सरकार की गरीबों को तबाह और परेशान करने की जो मंशा थी उसे फिर से शुरू कर दिया गया है। हर सुबह उठते ही आप देखेंगे कि किसी ना किसी चीज के दाम बढ़ जाते हैं।

इसके अलावा कांग्रेस नेता (Congress Leader) ने कहा कि जो जरूरी चीजें हैं, उनके दामों में भी 15-17 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर दी गई है। हम मंहगाई के मुद्दे पर संसद में चर्चा करना चाहते थे। लेकिन केंद्र सरकार ने चर्चा नहीं की। अंतरराष्ट्रीय बाजार (International Market) में कच्चे तेल के दाम कम हैं, इसके बाद भी लगातार देश में ईंधन के दाम बढ़ाए जा रहे हैं।

सदन में मोदी सरकार मंगाई पर चर्चा को टलती गई, ताकि लोगों को उनकी कमियों के बारे में पता न चले। किसानों के खाद के दाम भी बढ़ गए, एलपीजी के दाम बढ़ गए, तेल के दाम भी बढ़ते जा रहे हैं। एक भी चीज ऐसी नहीं छोड़ी है जिससे गरीबों को राहत मिले। संसद को दो दिन पहले ही बंद कर दिया गया। इससे यही समझा जा सकता है कि जो गरीबों, किसानों की समस्या है उसे सरकार सुलझाना नहीं चाहती है।

और पढ़ें
Next Story